ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशजौनपुर में 52 सपाइयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, जानिए प्रशासन ने क्यों लिया एक्शन

जौनपुर में 52 सपाइयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, जानिए प्रशासन ने क्यों लिया एक्शन

जौनपुर में प्रशासन ने पार्षद समेत 52 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। दरअसल, 25 मई को हुए चुनाव के बाद सपा कार्यकर्ताओं ने ईवीएम ले जा रही गाड़ी को रोक लिया था और हंगामा किया था।

जौनपुर में 52 सपाइयों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, जानिए प्रशासन ने क्यों लिया एक्शन
fir
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,जौनपुरTue, 28 May 2024 02:45 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के जौनपुर में प्रशासन ने पार्षद समेत 52 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया है। दरअसल, 25 मई को जौनपुर और मछलीशहर लोकसभा चुनाव के लिए हुए मतदान के बाद सपा कार्यकर्ताओं ने ईवीएम ले जा रही गाड़ी को रोक लिया था और हंगामा किया था। पुलिस के मुताबिक सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के लिए यह कार्रवाई की गई है।

जौनपुर और मछलीशहर लोकसभा सीट के लिए 25 को मतदान खत्म होने के बाद वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में बने मतगणना स्थल पर पोलिंग पार्टिया EVM जमा करने पहुंच रही थी। इस बीच मुंगराबादशाहपुर से रिजर्व ईवीएम लदी डीसीएम कलेक्ट्रेट के लिए चलते हुए पूर्वांचल विश्वविद्यालय के रास्ते पर पहुंची। यहां जाम होने के कारण डीसीएम खड़ी थी कि तभी सपा के लोगों ने डीसीएम को रोककर हंगामा करना शुरु कर दिया। उनका आरोप था धांधली करने की नियत से यहां पर एक्सट्रा ईवीएम लायी गयी हैं। इस जिला निर्वाचन अधिकारी रविंद्र कुमार मादड़ भी मौके पर पहुंच गए और उन्हें समझाने की कोशिश की। जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि डीसीएम कलर्क्टेट जा रहा था। ट्रैफिक होने के कारण यह जाम में फंस गया।

इस पर लोगों ने घेरकर आरोप लगाना शुरु कर दिया। जिला निर्वाचन अधिकारी ने पूर्व में समस्त ईवीएम के नंबरों की सूची दी और बताया कि पहले भी सूची समस्त प्रत्याशियों को दी गयी है। किसी तरह से समझाते हुए लोगों को शांत कराया गया। अब पुलिस ने धारा 144 लागू होने के कारण शांति व्यवस्था और सरकारी कामों में बाधा उत्पन्न करने को लेकर सभासद जगदीश मौर्य उर्फ गप्पू, रमेश मोर्य उर्फ बसन्तू  नामजद और 50 अज्ञात के ऊपर केस दर्ज किया गया है। इस मामले में  सीओ सदर परमानंद कुशवाहा ने बताया कि प्राइवेट गाड़ी में लदे ईवीएम को रोक कर झूठी अफवाह फैलाने और सरकारी काम में बाधा पैदा करने को लेकर यह कार्रवाई की गई है। सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा।