ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशपुलिस उत्पीड़न से सगे भाइयों की आत्महत्या का मामला सीएम योगी तक पहुंचा, इंस्पेक्टर और दरोगा पर मुकदमा दर्ज

पुलिस उत्पीड़न से सगे भाइयों की आत्महत्या का मामला सीएम योगी तक पहुंचा, इंस्पेक्टर और दरोगा पर मुकदमा दर्ज

आगरा में पुलिस उत्पीड़न से तंग आकर 72 घंटे में 2 भाइयों के आत्महत्या कर लेने का मामला मंगलवार को लखनऊ तक पहुंच गया। जिस पर सीएम योगी ने संज्ञान लेते ही इंस्पेक्टर और दरोगा को सस्पेंड कर दिया गया है।

पुलिस उत्पीड़न से सगे भाइयों की आत्महत्या का मामला सीएम योगी तक पहुंचा, इंस्पेक्टर और दरोगा पर मुकदमा दर्ज
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,आगराTue, 25 Jun 2024 10:10 PM
ऐप पर पढ़ें

आगरा में पुलिस उत्पीड़न से तंग आकर 72 घंटे में 2 भाइयों के आत्महत्या कर लेने का मामला मंगलवार को लखनऊ तक पहुंच गया। जिस पर सीएम योगी ने संज्ञान लेते ही इंस्पेक्टर और दरोगा को सस्पेंड करते हुए मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

आगरा में पुलिस उत्पीड़न से तंग आकर 72 घंटे में दो भाइयों के आत्महत्या कर लेने का मामला मंगलवार को गरमा गया। सीएम योगी के संज्ञान लेते ही थाना सादाबाद के इंसपेक्टर मुकेश कुमार और दरोगा हरिओम अग्निहोत्री के खिलाफ आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का मुकदमा दर्ज कर लिया गया। बाद में आरोपी दरोगा को हिरासत में ले लिया गया। 

होमगार्ड प्रमोद का शव मंगलवार दोपहर गांव रूपधनू पहुंचने पर ग्रामीणों की भीड़ ने हंगामा शुरू कर दिया। ग्रामीण आरोपित इंस्पेक्टर और दरोगा की गिरफ़्तारी की मांग पर अड़ गए। करीब तीन घंटे हंगामे के बाद केंद्रीय मंत्री, विधायक और अधिकारियों के समझाने और कार्रवाई का भरोसा देने के बाद बमुश्किल ग्रामीण अंतिम संस्कार के लिए तैयार हुए। गमगीन माहौल में प्रमोद के अंतिम संस्कार के बाद केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल ने पीड़ित परिवार को पांच-पांच लाख रुपये की आर्थिक सहायता का चेक प्रदान करते हुए इंसाफ का भरोसा दिलाया। मगर परिजन और ग्रामीण इससे संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने इंस्पेक्टर सादाबाद मुकेश कुमार और दरोगा हरिओम अग्निहोत्री को गिरफ्तार कर जेल भेजने की मांग की। ग्रामीणों के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी पर दवाब बनाने का आरोप लगाने पर केंद्रीय मंत्री ने उनको लताड़ भी लगाई। 

बरहन थाने में मुकदमा दर्ज 

दो भाइयों की खुदखुशी के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा तो बरहन थाने में आनन-फानन में सादाबाद इंस्पेक्टर और दरोगा के खिलाफ आत्महत्या के लिए दुष्प्रेरित करने की धारा में मुकदमा दर्ज कर लिया गया। इससे पहले बरहन थाना पुलिस ने शनिवार को संजय सिंह की खुदकुशी के बाद सादाबाद पुलिस के खिलाफ मुकदमा लिखने से इनकार कर दिया था। 

करुण क्रंदन से दहले दिल  

मंगलवार को गांव रूपधनु में सुबह से पीड़ित परिवार के घर नेताओं के आने का तांता लगा रहा। पीड़ित परिवार के घर कोहराम मचा हुआ था। करुण क्रंदन को देख सभी के दिल दहल रहे थे। ग्रामीणों के घरों में चूल्हे तक नहीं जले थे। 

गांव में पीएसी तैनात

बरहन के गांव रूपधनू में तनावपूर्ण माहौल है। ग्रामीण भड़के हुए हैं। बवाल न हो जाए इस आशंका के चलते पीएसी तैनात कर दी गई है। कई थानों का पुलिस फोर्स भी गांव में लगाया गया है। एलआईयू और इंटेलीजेंस भी सक्रिय हैं। 

पुलिसिया उत्पीड़न की दर्दनाक दास्तान

बरहन के रूपधनु के दो सगे भाइयों की खुदकुशी के मामले में ग्रामीणों का आरोप था कि सादाबाद पुलिस उनको प्रताड़ित कर रही थी। बिना बजह संजय सिंह का शांति भंग में चालान किया गया। बाद में पुलिस ने संजय सिंह के बड़े भाई होमगार्ड प्रमोद सिंह और उसके बेटे को दो दिन हिरासत में रखा। आरोप था कि पुलिस एक लाख रुपये मांग रही थी। प्रमोद ने पचास हजार रुपये दिये थे। एसपी ने इस मामले की जांच एएसपी को दी है। सोमवार को सादाबाद पुलिस ने बयानों के लिए प्रमोद सिंह को बुलाया था, लेकिन उससे पहले ही उसने खुदकुशी कर ली। 

एसएसपी हाथरस निपुण अग्रवाल ने बताया कि इंस्पेक्टर और दरोगा को सस्पेंड कर दिया गया है। दोनों के खिलाफ अभियोग पंजीकृत हो गया है। प्रमोद के पास से एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। उसी आधार पर दोनों के खिलाफ अभियोजन पंजीकृत कर लिया है।