DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  रिटायर IAS सूर्य प्रताप सिंह पर बलिया में भी केस, बोले-मोस्ट वांटेड का तमगा मिलने ही वाला है

उत्तर प्रदेशरिटायर IAS सूर्य प्रताप सिंह पर बलिया में भी केस, बोले-मोस्ट वांटेड का तमगा मिलने ही वाला है

बलिया। संवाददाताPublished By: Yogesh Yadav
Fri, 11 Jun 2021 07:23 PM
रिटायर IAS सूर्य प्रताप सिंह पर बलिया में भी केस, बोले-मोस्ट वांटेड का तमगा मिलने ही वाला है

गंगा नदी में मिले शव के मामले में ट्वीट करने वाले भारतीय प्रशासनिक सेवा के रिटायर अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह के खिलाफ नगर कोतवाली पुलिस ने केस दर्ज किया है। पुलिस ने उन्हें नोटिस जारी कर बयान दर्ज करने के लिये बुलाया है। बलिया नगर कोतवाली में दर्ज मुकदमा व नोटिस कर तलब किये जाने के बाद रिटायर आईएस अफसर सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट किया। उन्होंने लिखा कि ‘मैं अपने जूनियर अफसरों से काफी निराश हूं कि उन्हें कानून तक की जानकारी नहीं है। फिलहाल खबर यह है कि उन्नाव वाले मामले में ही मेरे ऊपर सातवीं एफआईआर बलिया में भी हो चुकी है और आज बलिया पुलिस मेरे घर आकर मुझे थाने आने का नोटिस दे गयी। लगता है मोस्ट वांटेड का तमगा मिलने ही वाला है’।

बताया जाता है कि रिटायर्ड आईएस अफसर अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने अपने ट्वीटर पर एक फोटो अटैच करते हुए बलिया में गंगा नदी के किनारे 67 शवों के मिलने की बात लिखी। इस प्रकरण के संज्ञान में आने के बाद 12 मई को नगर कोतवाल बालमुकुंद मिश्र ने सूर्यप्रताप सिंह के खिलाफ धारा 505 (सार्वजनिक शांति के विरुद्ध अपराध करने के आशय से असत्य कथन, जनश्रुति आदि परिचालित करना) तथा सूचना प्रौद्योगिकी संशोधन अधिनियम की धारा 67 (इंटरनेट पर अश्लील समाग्री डालना) के तहत नामजद मुकदमा दर्ज कराया। 

नगर कोतवाल ने तहरीर में लिखा है कि ट्वीटर पर अटैच फोटो व मैसेज को कोई सम्बंध बलिया जनपद से नहीं है। उन्होंने लिखा है कि जांच में लोगों ने बताया कि उक्त फोटो वर्ष 2014 का उन्नाव जनपद से सम्बंधित है। रिटायर आईएएस ने ट्वीटर हैंडल के जरिये आम जनता में भय उत्पन्न करने व भ्रामक सूचना देकर गुमराह किया है। इस मामले की जांच की जिम्मेदारी एसओ दुबहड़ अनिल चंद तिवारी को दी गयी। उन्होंने बयान दर्ज कराने के लिये आरोपित रिटायर आईएस सूर्यप्रताप सिंह को नोटिस भेजा है।

जांच में रिटायर आईएस के खिलाफ मिले साक्ष्य
रिटायर आईएस अफसर सूर्यप्रताप सिंह पर दर्ज मुकदमे में जांच के दौरान तीन अन्य धारा की बढ़ोत्तरी की गयी है। विवेचना में मिले साक्ष्यों के आधार पर पुलिस ने धारा 505 धारा 67 के अलावे भारतीय दंड संहिता की धारा 188, तीन महामारी अधिनियम व 54 आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा की बढ़ोत्तरी की गई है। 

एसपी विपिन ताडा का कहना है कि विवेचना में रिटायर अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह के विरुद्ध आरोप के पुख्ता साक्ष्य मिले हैं। उनका कहना है कि अपने ट्वीट में कई साल पहले एक अंग्रेजी अखबार की प्रकाशित फोटो को बलिया जिले की वर्तमान समय की फोटो प्रदर्शित कर पोस्ट किया है। विवेचना में मिले साक्ष्यों के मद्देनजर रिटायर अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह को पुलिस द्वारा नोटिस जारी किया गया है। उनसे इस मामले में अपनी सफाई व बयान देने को कहा गया है।

संबंधित खबरें