ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकानपुर में कारोबारी के बेटे की अपहरण के बाद हत्‍या, महिला टीचर और उसका बॉयफ्रेंड गिरफ्तार; स्‍टोर रूम से मिली लाश

कानपुर में कारोबारी के बेटे की अपहरण के बाद हत्‍या, महिला टीचर और उसका बॉयफ्रेंड गिरफ्तार; स्‍टोर रूम से मिली लाश

Kanpur Kidnapping And Murder: कानपुर में दसवीं में पढ़ने वाले कपड़ा कारोबारी के बेटे कुशाग्र की हत्‍या हो गई है। ट्यूशन टीचर के बॉयफ्रेंड के घर से उसकी लाश बरामद हुई थी। कुशाग्र सोमवार शाम से गायब था।

कानपुर में कारोबारी के बेटे की अपहरण के बाद हत्‍या, महिला टीचर और उसका बॉयफ्रेंड गिरफ्तार; स्‍टोर रूम से मिली लाश
Ajay Singhहिंदुस्‍तान,कानपुरTue, 31 Oct 2023 04:41 PM
ऐप पर पढ़ें

Murder of businessman's son in Kanpur: यूपी के कानपुर के एक बड़े कपड़ा कारोबारी के बेटे कुशाग्र कनोडिया (उम्र 15 वर्ष) की हत्‍या कर दी गई है। दसवीं में पढ़ने वाले कुशाग्र की डेडबॉडी उसकी ट्यूशन टीचर के घर के स्‍टोर रूम से मिली है। पुलिस ने ट्यूशन टीचर रचिता उसके बॉयफ्रेंड प्रभात शुक्‍ल और उसके एक साथी अंकित को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक दोनों से पूछताछ की जा रही है। जल्‍द ही हत्‍या का मोटिव सामने आ जाएगा। 

कुशाग्र सोमवार शाम करीब साढ़े चार बजे कोचिंग सेंटर के लिए स्कूटर से निकलने के बाद लापता हो गया था। जब परिवार खोज रहा था तो किसी ने घर में एक पत्र फेंका था जिसमें 30 लाख रुपये की फिरौती मांगी गई थी। फिरौती का पत्र इस तरह से लिखा गया था कि संदेह एक विशेष समुदाय के सदस्य पर जाए।

परिजनों को अलकायदा के नाम से मिले लेटर में अपहरण की बात कही गई थी। जिसके बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया, लेकिन पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि कुशाग्र की हत्या अपहरण नहीं बल्कि साजिश के तहत महिला टीचर, उसके मंगेतर और उनके एक साथी ने मिलकर की थी। इतना ही नहीं पत्र भेजने से पहले ही कुशाग्र की हत्या की जा चुकी थी। इस मामले में पुलिस महिला टीचर रचिता, मंगेतर प्रभात शुक्ला और उसके साथी अंकित को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। साथ ही पुलिस को सीसीटीवी फुटेज भी मिला है, जिसमें छात्र कुशाग्र खुद प्रभात शुक्ला और टीचर के घर जाता हुआ दिखा। आरोपियों ने पुलिस को गुमराह करने के लिए अपरहण किए जाने का पत्र लिखा था।

पुलिस को गुमराह करने की कोशिश 
कुशाग्र सोमवार की शाम अपनी स्‍कूटी से कोचिंग के लिए गया लेकिन लौटकर घर नहीं आया। बाद में कोई शख्‍श मुंह पर कपड़ा बांधे स्‍कूटी से आया और एक लेटर देकर चला गया। लेटर में 30 लाख रुपए की फिरौती की मांग की गई थी। पुलिस को भी पहले लगा कि फिरौती के लिए बच्‍चे का अपहरण किया गया है। लेकिन मामले की जांच शुरू हुई तो कुछ समय बाद ही कुशाग्र की ट्यूशन टीचर और उसके बॉयफ्रेंड पर शक गहराने लगा। पुलिस ने उनसे पूछताछ की।

बताया जा रहा है कि शुरू में दोनों ने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की लेकिन बाद में उन्‍होंने सारी सच्‍चाई उगल दी। दोनों से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने कुशाग्र की डेडबॉडी को बरामद कर लिया। पुलिस का कहना है कि कुशाग्र की हत्‍या सोमवार की शाम साढ़े पांच बजे ही हो गई थी। फिरौती वाला लेटर सिर्फ गुमराह करने के लिए भेजा गया।

सीसीटीवी फुटेज में कुशाग्र अपनी मर्जी से टीचर के घर में जाता हुआ दिखा। उसके बाद टीचर रचिता, उसका बॉयफ्रेंड प्रभात स्‍टोर रूम में जाते हुए दिखे। करीब आधे घंटे बाद दोनों कमरे से बाहर निकले जबकि कुशाग्र अंदर ही रहा। पुलिस का मानना है कि इसी दौरान उसकी हत्‍या कर दी गई थी। इसके बाद सीसीटीवी फुटेज में प्रभात कुशाग्र की स्‍कूटी ले जाता हुआ दिख रहा है। फिर वह और उसका दोस्‍त स्‍कूटी से फिरौती वाला लेटर कुशाग्र के घर फेंक कर आते हैं। उन्होंने स्‍कूटी का नंबर भी बदल दिया था।