ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशबुंदेलखंड यूनिवर्सिटी की छात्रा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखी ये बातें

बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी की छात्रा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखी ये बातें

झांसी में बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी की बीपीईएस छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसका शव बगीचे में पेड़ के फंदे से लटकता हुआ मिला। घटनास्थल से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है।

बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी की छात्रा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखी ये बातें
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,झांसीSat, 22 Jun 2024 04:37 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के झांसी एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां  बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी की बैचलर ऑफ फिजिकल एजूकेशन एंड स्पोर्ट्स (बीपीईएस) की एक छात्रा ने फांसी लगाकर जान दे दी। शुक्रवार तड़के उसका शव घर के पास बगीचे में पेड़ से फंदे पर झूलता मिलने से परिवार में कोहराम मच गया। चप्पल के पास मिले सुसाइड नोट में छात्रवृत्ति न आने का जिक्र किया गया है। वहीं, पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

मृतक संजना के पिता कालका ने बताया कि बेटी बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी से स्पोर्ट्स कोर्ट बीपीईएस की पढ़ाई कर रही थी। साथ में एनसीसी में भी थी। घर में आर्थिक समस्या होने की वजह से स्कॉलरशिप के लिए आवेदन किया था। इसके लिए वह कई महीनों से परेशान थी। इसी के चलते यह कदम उठाया है। मृतक पिता कालका और चचेरे भाई अरविंद ने बताया कि सुबह जब वह घर में नहीं मिली तो पास में देखा। वहीं पेड़ से उसका शव झूल रहा था। उसका चप्पल नीचे पड़ी थी। पास में एक कागज सुसाइड नोट दबा था। जिस पर लिखा था ‘यह नोट इसलिए लिख रही हूं ताकि इस कदम का पता चले। छात्रवृति 28 हजार रुपए आनी थी, जो नहीं आई। जबकि कई बच्चों की आ चुकी है। इसके लिए दफ्तर भी गए थे। जिसमें आधार कार्ड फीडिंग न होना बताया गया है।

परिवार में मचा कोहराम 

स्पोर्ट्स कोर्स कर रही छात्रा द्वारा फांसी लगाकर दी गई जान के बाद परिवार में कोहराम मच गया। वह रोने-बिलखते लगे। माता-पिता बेटी के लिए बेहोश हो। उन्होंने बताया कि परिवार के साथ ही रात बेटी सोई थी। पता नहीं था कि सुबह इतना बड़ा कदम उठा लेगी। वह तो अपनी मां और बहन के साथ लेटी थी। पिता-पुत्र बाहर लेटे थे। वह रात कब वहां पहुंची। वहीं शुक्रवार पूरे गांव में मातम छाया रहा। ग्रामीणों की मानें तो संजना पढ़ने में होशियार थी। जब उसका शव पेड़ से झूलता देखा तब घटना की जानकारी हुई।