ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशमुरादाबाद में गरजा बुलडोजर, होटल और हिंदू कॉलेज का गेट ध्वस्त 

मुरादाबाद में गरजा बुलडोजर, होटल और हिंदू कॉलेज का गेट ध्वस्त 

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में बुलडोजर गरजा। हिंदू कालेज गेट, प्रेम चुनरिया होटल के अलावा अतिक्रमण के दायरे में आ रही दुकानों पर बुलडोजर चला।

मुरादाबाद में गरजा बुलडोजर, होटल और हिंदू कॉलेज का गेट ध्वस्त 
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,मुरादाबादWed, 17 Jan 2024 08:48 AM
ऐप पर पढ़ें

मुरादाबाद नगर निगम अफसरों के निर्देश पर बुलडोजर चला। हिंदू कालेज गेट, प्रेम चुनरिया होटल के अलावा अतिक्रमण के दायरे में आ रही दुकानों पर बुलडोजर चला। निगम अफसरों का दावा है कि जल्द ही स्मार्ट सिटी योजना के रुके कार्यों को पूरा करने की कार्रवाई शुरू की जाएगी। वहीं दूसरी ओर कुछ व्यापारी दबी जुबान से विरोध करते नजर आए, लेकिन निगम टीम के सामने आने का साहस कोई नहीं जुटा सके। तीन बुलडोजर ने छह घंटे तक अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की। इसके लिए सुबह 11 बजे नगर निगम की टीम पहुंच गई थी।

अपर नगरायुक्त अनिल कुमार सिंह द्वारा व्यापारियों को पिछले शुक्रवार को दो दिन की मोहलत दी गई थी। व्यापारियों ने खुद ही अपना अतिक्रमण तोड़ने की बात कही थी। सोमवार को टीम मौके पर पहुंची तो व्यापारियों के निर्देश पर मजदूर अतिक्रमण हटा रहे थे। शाम को निगम की टीम ने बुलडोजर चला दिया। मंगलवार को भी टीम मौके पर पहुंची, लेकिन व्यापारियों द्वारा अतिक्रमण हटाने की सिर्फ औपचारिकता की जा रही थी। अपर नगरायुक्त अनिल कुमार सिंह ने बताया कि अतिक्रमण के दायरे में आया हिंदू कालेज गेट, होटल प्रेम चुनरिया के अलावा दुकानों पर बुलडोजर कार्रवाई की गई। शीघ्र ही अतिक्रमण के कारण स्मार्ट सिटी योजना के रुके कार्य शुरू कर दिए जाएंगे।

निगम की प्रवर्तन दल की टीम ने भीड़ को खदेड़ा

मुरादाबाद। बुध बाजार में अतिक्रमण के खिलाफ बुलडोजर कार्रवाई देखने के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ पड़ी। नगर निगम के प्रवर्तन दल के प्रभारी कर्नल एसके शाही, नईम हैदर, राकेश कुमार ने भीड़ को माइक से हटाने के निर्देश दिए, लेकिन पब्लिक बात मानने के लिए तैयार नहीं थी। दोपहर बाद प्रवर्तन दल ने सख्त तेवर अपनाते हुए भीड़ को खदेड़ा। इसके बाद ही बुलडोजर कार्रवाई की जा सकी।

हाईकोर्ट के निर्देश पर 48 दिन बाद खोला मुसाफिरखाना
मुरादाबाद। मंगलवार दोपहर नगर निगम की टीम रेलवे स्टेशन स्थित मुसाफिरखाना पहुंची। हाईकोर्ट के निर्देश पर मुसाफिरखाने की सील खोल दी। मुसाफिरखाना पिछले 48 दिनों से सील चल रहा था। तीस लाख 99 हजार रुपये बकाए के चलते 29 नवंबर को निगम ने सील कर दिया है। 20 सितंबर 2023 को मुसाफिरखाना पर 30.99 लाख रुपए बकाया का नोटिस प्रबंधन द्वारा लेने से इनकार कर दिया गया था। इस पर निगम टीम द्वारा वहां नोटिस चस्पा करने की कार्रवाई की गई थी। बकाया धनराशि शीघ्र जमा करने को कहा गया था। इसके बाद भी मुसाफिरखाना प्रबंध कमेटी ने बकाया अदा नहीं किया। 29 नवंबर को मुसाफिरखाना को सील करने की कार्रवाई की गई थी। मानवता के चलते मुसाफिरखाने की दुकाने जिनमें रेस्टोरेंट संचालित हैं, को सील नहीं किया गया था। मुख्य कर निर्धारण अधिकारी आरती सिंह ने बताया कि मुसाफिरखाना कमेटी और दुकानदारों द्वारा कुल चार लाख रुपए जमा किए गए हैं। शेष धनराशि भी वसूलने की कार्रवाई जल्द की जाएगी। फिलहाल सील को खोल दिया गया है। वहीं दूसरी ओर मुसाफिरखाना कमेटी के मैनेजर शकीलउररहमान ने भी मुसाफिरखाना की सील खुलने की पुष्टि की। बताया कि कमेटी के लोग हाईकोर्ट गए थे। इसके बाद ही सील खोलने की कार्रवाई की गई है।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें