ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशपूर्वांचल में BSP का चैलेंज, बदले सियासी हालात में इन 5 सीटों पर दोहरा पाएगी जीत?

पूर्वांचल में BSP का चैलेंज, बदले सियासी हालात में इन 5 सीटों पर दोहरा पाएगी जीत?

लोकसभा चुनाव के बचे दो चरणों में पूर्वांचल में विपक्ष के रूप में सबसे अधिक बसपा की प्रतिष्ठा दांव पर है। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा जिन छह सीटों पर हारी थी उनमें से 5 पर BSP से ही उसे मात मिली थी।

पूर्वांचल में BSP का चैलेंज, बदले सियासी हालात में इन 5 सीटों पर दोहरा पाएगी जीत?
Ajay Singhहेमंत श्रीवास्तव,लखनऊWed, 22 May 2024 07:01 AM
ऐप पर पढ़ें

Lok Sabha Election 2024: यूपी में लोकसभा चुनाव के बचे दो चरणों में पूर्वांचल में विपक्ष के रूप में सबसे अधिक बसपा की प्रतिष्ठा दांव पर है। पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा जिन छह सीटों पर हारी थी उनमें से पांच पर बसपा से ही उसे मात मिली थी। अब बसपा के सामने अपनी इन पांच सीटों पर फिर से काबिज होने की बड़ी चुनौती है। यह चुनौती इसलिए बड़ी है क्योंकि बसपा के दो सांसदों में से एक भाजपा और एक सपा के सिंबल से चुनाव लड़ रहे हैं। 

दो सांसद भाजपाई हुए, एक को भाजपा ने टिकट दिया
पिछले चुनाव 2019 में पूर्वांचल में बसपा को घोसी, गाजीपुर, जौनपुर, लालगंज और अंबेडकरनगर सीट पर जीत मिली थी। वहीं सपा को सिर्फ एक सीट आजमगढ़ में जीत हासिल हुई थी। चुनाव अधिसूचना जारी होने से महीनों पहले से ही भाजपा ने पूर्वांचल में हारी इन छह सीटों को जीतने की रणनीति पर काम शुरू कर दिया था। इस प्रयास में भाजपा ने अंबेडकरनगर से बसपा के सांसद रितेश पांडे और लालगंज की बसपा सांसद संगीता आजाद को अपने पाले में कर लिया। इनमें से रितेश पांडेय को भाजपा ने अंबेडकरनगर से प्रत्याशी बनाया है जबकि संगीता आजाद भाजपा के लिए काम कर रही हैं। 

दो सीटों पर अपने ही सांसदों की चुनौती है बसपा के सामने
अंबेडकरनगर सीट पर अपने सांसद रितेश पांडे को खो देने के बाद बसपा ने इस बार इस सीट पर अल्पसंख्यक समाज से आने वाले कमर हयात अंसारी को प्रत्याशी बनाया है। सपा ने इस सीट से लालजी वर्मा को मैदान में उतारा है। वहीं गाजीपुर से बसपा के सांसद रहे अफजाल अंसारी ने भी पाला बदल लिया है। इस चुनाव में वह सपा के सिंबल पर मैदान में हैं। भाजपा ने इस सीट से पारसनाथ राय और बसपा ने यहां से डा. उमेश कुमार सिंह को प्रत्याशी बनाया है। इस लिहाज से इन दोनों सीटों पर बसपा के सामने पिछले चुनाव के नतीजे को दोहराने में अपने ही सांसदों से दो-चार होना है।
 
लालगंज बसपा सांसद की ताकत भाजपा के साथ
लालगंज से बसपा की सांसद रहीं संगीता आजाद ने भी भाजपा का दामन थाम लिया है। संगीता आजाद लालगंज सीट से प्रत्याशी तो नहीं हैं लेकिन वह भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में लगी हैं। इस सीट पर भाजपा से नीलम सोनकर, सपा से दारोगा सरोज और बसपा से डा. इंदु चौधरी प्रत्याशी हैं। भाजपा प्रत्याशी नीलम सोनकर को पिछले चुनाव में बसपा प्रत्याशी संगीता आजाद से हार का सामना करना पड़ा था। इस चुनाव में दोनों तराजू के एक ही पलड़े में हैं। 

घोसी में इस बार बालकृष्ण चौहान के चेहरे पर बसपा 
घोसी से बसपा के सासंद अतुल राय जेल में थे। जमानत पर छूट चुके हैं लेकिन वह चुनाव मैदान में नहीं हैं। बसपा प्रत्याशी अतुल राय ने पिछले चुनाव में भाजपा प्रत्याशी हरिनारायण राजभर को मात दी थी। इस बार इस सीट पर भाजपा खेमे से सुभासपा ने अरविंद राजभर को प्रत्याशी बनाया है। सपा से राजीव राय तो बसपा ने बालकृष्ण चौहान को अपना प्रत्याशी बनाया है। बसपा के सामने इस सीट पर भी पिछले चुनाव की कहानी को दोहराने की बड़ी चुनौती है।  

देर से सही लेकिन जौनपुर सांसद को बसपा ने दिया मौका
बसपा ने पूर्वांचल की पांच में से सिर्फ एक सीट जौनपुर में अपने सांसद श्याम सिंह यादव को प्रत्याशी घोषित किया है। पहले बसपा ने इस सीट से किसी और को प्रत्याशी घोषित किया था बाद में बदलाव करते हुए फिर से सांसद श्याम सिंह यादव पर भरोसा जताया है। जौनपुर सीट से भाजपा से कृपाशंकर सिंह, सपा से बाबू सिंह कुशवाहा की चुनौती बसपा के मौजूदा सांसद के समक्ष है।