ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी विधानसभा उपचुनाव में बसपा की प्रतिष्ठा दांव पर, 2022 में जीती थी एक सीट

यूपी विधानसभा उपचुनाव में बसपा की प्रतिष्ठा दांव पर, 2022 में जीती थी एक सीट

यूपी में चार विधानसभा सीटों पर होने वाला उपचुनाव में बसपा की प्रतिष्ठा दांव पर है। पिछले 2022 के विधानसभा चुनाव में बसपा को केवल मात्र एक ही सीट मिली थी।

यूपी विधानसभा उपचुनाव में बसपा की प्रतिष्ठा दांव पर, 2022 में जीती थी एक सीट
Deep Pandeyशैलेंद्र श्रीवास्तव,लखनऊThu, 16 May 2024 05:38 AM
ऐप पर पढ़ें

यूपी लोकसभा के साथ ही यूपी में चार विधानसभा सीटों पर होने वाला उपचुनाव में बसपा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। विधानसभा आम चुनाव में बसपा बेहतर प्रदर्शन नहीं कर पाई थी, वह मात्र एक सीट ही जीत पाई थी। जिन चारों सीटों पर विधानसभा का उपचुनाव हो रहा है, बसपा वर्ष 2022 के चुनाव में तीसरे स्थान तक ही पहुंच पाई थी। बसपा ने जातीय समीकरण के आधार पर इन चारों सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं, अब देखने वाला यह होगा कि उसकी यह चाल कितनी सफल हो पाएगी।

यूपी में वर्ष 2022 में विधानसभा का चुनाव हुआ था। बसपा इस चुनाव में भी अपने दम पर अकेले लड़ी थी। उसने सभी 403 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन वह मात्र एक सीट ही जीत पाई। यूपी के विधानसभा चुनावों के इतिहास पर नजर डाला जाए तो बसपा का मत प्रतिशत लगातार गिरता हुआ दिखाई दे रहा है। वर्ष 2007 में बसपा 30.43 फीसदी मत पाकर 206 सीटें जीती थी और अपने दम पर सरकार बनाई, लेकिन इसके बाद वर्ष 2012 में 25.95, वर्ष 2017 में 22.23 प्रतिशत और वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में उसे मात्र 12.08 फीसदी मत मिले। 
राजनीतिक जानकारों की मानें तो बसपा का जनाधार गिरने के पीछे उसका वोट बैंक खिसकना माना जा रहा है। बसपा का कुछ कोर वोटर दूसरी पार्टियों में शिफ्ट हुआ है। वर्ष 2022 के चुनाव में बसपा वोट बैंक को मोटा हिस्सा भाजपा के साथ जाने की बात सामने आई थी।

खुद को साबित करने का मौका
बसपा सुप्रीमो मायावती लगातार हार के बाद भी यह दावा करती आ रही हैं कि उसका कोर वोट बैंक आज भी उसके साथ मजबूती से डटा हुआ है। बसपा कोर मतदाताओं में जाटव, धोबी, पासी आदि जातियां मानी जाती रहीं हैं। लोकसभा चुनाव के साथ ही यूपी में होने वाले चार विधानसभा सीटों पर उपचुनाव में बसपा को खुद को साबित करने का एक मौका भी माना जा सकता है। इस चुनाव में बसपा को मिलने वाले वोटों के आधार पर यह काफी हद तक साफ हो जाएगा कि उसका कोर वोट बैंक उसके पास बचा है या नहीं?

उप चुनाव में किस पार्टी के कौन उम्मीदवार
सीट             भाजपा            कांग्रेस-सपा      बसपा
लखनऊ पूर्वी    ओपी श्रीवास्तव   मुकेश सिंह       आलोक कुशवाहा
गैंसड़ी           शैलेश सिंह शैलू  राकेश यादव      मोहम्मद हारिस खान
दुद्धी-सु         श्रवण गौंड़        विजय सिंह गोंड   रवि सिंह खरवार
ददरौल          अरविंद सिंह      अवधेश कु. वर्मा   सर्वेश चंद्र मिश्रा

वर्ष 2022 के चुनाव इन सीटों में बसपा की स्थिति
- लखनऊ पूर्वी आशीष कुमार सिन्हा को 9834 मत
- गैंसड़ी अलाउद्दीन को 31914 मत
- दुद्धी हरीराम को 23879 मत
- ददरौल चंद्रकेतु मौर्य को 21671 मत

विधानसभा सीटों पर उप चुनाव की वजह
लखनऊ पूर्वी से आशुतोष टंडन, ददरौल सीट मानवेंद्र सिंह और गैंसड़ी शिव प्रताप यादव के निधन पर उपचुनाव हो रहा है। दुद्धी विधानसभा सीट पर रामदुलार के अयोग्य ठहराए जाने के बाद उपचुनाव हो रहा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें