DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मिशन 2019: कांग्रेस की राह पर बसपा, उत्तर प्रदेश को पूरब और पश्चिम में बांटा

Mayawati, BSP Chief

मिशन 2019 के लिए बसपा पूरी तरह से चुनावी मोड़ में आ गई है। बसपा भी अब कांग्रेस की राह पर चल पड़ी है। बसपा सुप्रीमो ने उत्तर प्रदेश को पूरब और पश्चिम में बांट दिया है। 

बसपा सुप्रीमो मायावती ने रविवार को प्रदेश कार्यालय पर अहम बैठक में सभी जोन इंचार्जों के साथ जिलाध्यक्ष और वामसेफ के अध्यक्ष भी बुलाए गए थे। इसमें बसपा सुप्रीमो ने इस बड़े बदलाव की जानकारी दी। बैठक में बताया गया कि प्रदेश के 9-9 मंडलों को दो हिस्सों में बांटकर पश्चिमी और पूर्वी दो जोन बना दिए गए हैं। पश्चिम उत्तर प्रदेश में मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद, बरेली, अलीगढ़, आगरा, कानपुर, झांसी और चित्रकूट मंडल शामिल किए गए हैं। पश्चिम के मुख्य प्रभारी सुनील कुमार चित्तौड़ होंगे, जबकि उनके साथ सहारनपुर के नरेश गौतम और शम्सुद्दीन राइन भी रहेंगे। नरेश गौतम अभी तक मेरठ और सहारनपुर मंडल के मुख्य जोन इंचार्ज थे। सुनील कुमार चित्तौड़ आगरा के रहने वाले हैं और वह दो बार एमएलसी रह चुके हैं और विभिन्न मंडलों के प्रभारी भी रहे हैं।

चुनाव 2019: बसपा ने आधे से अधिक लोकसभा सीटों के प्रभारी तय किए

पूर्वी उत्तर प्रदेश के नौ मंडलों का प्रभारी घनश्याम सिंह खरवार को बनाया गया है। उनके साथ नौशाद अली और अखिलेश अम्बेडकर को लगाया गया है। इन सभी प्रभारियों को जिम्मेदारी दी गई है कि वे 5 मार्च से जिलों के दौरे प्रारंभ करेंगे और 13 मार्च तक सभी जिलों के दौरे कर वहां बैठक के उपरांत अपनी रिपोर्ट तैयार करेंगे। इसके बाद 15 मार्च को कांशीराम की जयंती के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। फिर सभी मंडल मुख्यालयों पर जनसभाओं का आयोजन होगा और इन जनसभाओं में पश्चिम और पूर्वी उत्तर प्रदेश के तीनों प्रभारी एक साथ रहेंगे। इन मंडल मुख्यालयों पर जनसभाओं के उपरांत बसपा सुप्रीमो के चुनावी कार्यक्रम जारी किए जाएंगे।   

संगठन में बदलाव की संभावना
पार्टी में अभी संगठन में और भी बदलाव संभव हैं और माना जा रहा है कि मार्च माह में बड़े पैमाने पर संगठन में बदलाव किए जा सकते हैं। जिलों और मंडल के इंचार्जों में बदलाव पार्टी हाईकमान कर सकता है। जोन इंचार्जों के कामों की समीक्षा शीर्ष नेतृत्व द्वारा की जा रही है और समीक्षा के बाद ही कुछ जोन और जिला इंचार्जों की छुट्टी कर नए लोगों को मौका दिया जा सकता है। 

गठबंधन को जिताने के लिए करना होगा काम
बसपा सुप्रीमो ने इस बैठक में साफ निर्देश दिए हैं कि पार्टी पदाधिकारी और कार्यकर्ता गठबंधन के प्रत्याशियों को जिताने की तैयारी में जुट जाएं। हर सीट पर गठबंधन को जिताना होगा। जहां बसपा के प्रत्याशी हैं, वहां पार्टी पदाधिकारी और कार्यकर्ता पूरी मेहनत करेंगे। जहां सपा के प्रत्याशी मैदान में हैं, वहां बसपा के नेताओं और कार्यकर्ताओं को और भी अधिक मेहनत कर यह सुनिश्चित करना होगा कि पार्टी के वोट सपा के प्रत्याशी को मिले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BSP also divided Uttar Pradesh in West UP and East UP for upcoming Lok Sabha Elections 2019