ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशप्रॉपर्टी के लिए जेठ ने भाई की विधवा का बेरहमी से किया कत्‍ल, जंगल में कुएं से मिली सिर और दोनों हाथ कटी लाश

प्रॉपर्टी के लिए जेठ ने भाई की विधवा का बेरहमी से किया कत्‍ल, जंगल में कुएं से मिली सिर और दोनों हाथ कटी लाश

कानपुर की महिला रजनी की हत्या का खुलासा पुलिस ने 24 घंटे में कर दिया है। तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनकी निशानदेही पर महिला का कटा सिर, कटे हुए दोनों हाथ, आलाकत्ल बरामद कर लिया गया है।

प्रॉपर्टी के लिए जेठ ने भाई की विधवा का बेरहमी से किया कत्‍ल, जंगल में कुएं से मिली सिर और दोनों हाथ कटी लाश
Ajay Singhहिंदुस्‍तान,कानपुरSun, 12 Nov 2023 02:52 PM
ऐप पर पढ़ें

Murder of Brother's Wife: कानपुर के कल्‍याणपुर थाना क्षेत्र के कोरसम गांव के जंगल में कानपुर की महिला रजनी की हत्या का खुलासा पुलिस ने 24 घंटे में कर दिया है। तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर उनकी निशानदेही पर महिला का कटा सिर, कटे हुए दोनों हाथ, आलाकत्ल और वारदात में इस्तेमाल बाइक को बरामद कर हत्यारोपी मृतका के जेठ शिवराम, जयराम और भतीजे अविनेश को कोर्ट में पेश किया जहां से तीनों को जेल भेजा दिया गया।

एसपी उदयशंकर सिंह ने बताया कि महिला कानपुर के महाराजपुर थाना क्षेत्र के हाथीपुर गांव की थी। चौथा अभियुक्त फरार है। उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस की टीमें लगी हुई हैं। एसपी ने बताया कि महिला की हत्या उसके परिवारीजनों द्वारा की गई थी। मृतका का सिर और कटे हुए हाथ बिंदकी के खजुहा के जंगल में एक कुएं से बरामद किए गए हैं।

रजनी को संपत्ति में नहीं दिया था हिस्सा 
रजनी के पति दयाराम की 2015 में मौत के बाद वह ससुरालीजनों से अलग रहने लगी थी। ससुर रामेश्वर ने संपत्ति रजनी को छोड़कर तीनों लड़कों के नाम कर दी जिसके बाद रजनी ने इसकी शिकायत पुलिस प्रशासन से की।

कमरे में ही कर दी थी हत्या
आरोपियों ने रजनी की हत्या उसके घर में गला दबाकर कर दी थी। आरोपियों से रजनी की हाथापाई भी हुई थी। फिर शव को आरापियों ने बोरे में रखा और उसके साथ एक बोरी में बैंगन रखे। शव लेकर कोरसम गांव के जंगल में पहुंचे, शिनाख्त मिटाने के लिए जंगल में ही सिर और दोनों हाथ बांके से काटे इन टुकडों को ले जाकर बिदकीं के खजुहा में जंगल में कुएं में फेंक दिया।

थाने पहुंचा था मामला, पुलिस ने कराई थी सुलह
मामला थाने तक पहुंचा, जहां पुलिस ने समझौता कराते हुए रजनी को तीन बीघे खेत दिलवा दिए जिसमें वह खेती कराती थी। इस बात को लेकर रजनी के तीनों जेठ शिवराम, जयराम, सियाराम खुन्नस रखने लगे थे। अक्सर वाद विवाद भी होता था। इसी खुन्नस में रजनी को रास्ते से हटाने की योजना बना ली। हत्याकांड में शिवराम का पुत्र अविनेश भी शामिल था।