ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशपहलवानों के आंदोलन पर अयोध्या में बोले बृजभूषण शरण सिंह- बदला लेना स्वभाव नहीं, बच्चों का भविष्य सुधारता हूं

पहलवानों के आंदोलन पर अयोध्या में बोले बृजभूषण शरण सिंह- बदला लेना स्वभाव नहीं, बच्चों का भविष्य सुधारता हूं

विवादों से घिरे भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष और बीजेपी सांसद बृज भूषण शरण सिंह अयोध्या में अपने बाहुबल का प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने अयोध्या के कई मंदिरों में दर्शन किए और मीडिया से बात की।

पहलवानों के आंदोलन पर अयोध्या में बोले बृजभूषण शरण सिंह- बदला लेना स्वभाव नहीं, बच्चों का भविष्य सुधारता हूं
Srishti Kunjलाइव हिन्दुस्तान,अयोध्याFri, 05 May 2023 01:27 PM
ऐप पर पढ़ें

विवादों से घिरे भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष और बीजेपी सांसद बृज भूषण शरण सिंह अयोध्या में अपने बाहुबल का प्रदर्शन कर रहे हैं। जहां एक ओर उन्होंने अयोध्या के कई मंदिरों में दर्शन किए वहीं उनके समर्थन में उमड़े हुजूम से उनके बाहुबल का भी एक नजारा देखने को मिला।

सुप्रीम कोर्ट में पहलवानों की याचिका बंद होने पर सांसद और समर्थकों ने राहत की सांस ली है। अयोध्या के मंदिरों में आशीर्वाद लेते हुए दर्शन कर रहे बृज भूषण शरण सिंह ने कहा कि उन्हें न्यायपालिका पर भरोसा है और न्यायपालिका ने निर्णय दिया है। इसके अलावा उन्होंने पहलवानों के प्रदर्शन को उत्पात बताते हुए दोहा भी सुनाया। उन्होंने कहा कि वो बच्चों का भविष्य सुधारते हैं, बदला लेना उनका स्वभाव नहीं है।

बृज भूषण शरण सिंह ने अयोध्या के हनुमानगढ़ी में दर्शन के बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि आज अयोध्या का कार्यक्रम मेरा पहले से तय था और उसी के तहत आज संत स्थानों का दर्शन करते हुए मैं अपने गुरुभाई महंत ज्ञानदास जी का आशीर्वाद लेने आया हूं और यहां से निकल रहा हूं। सभी जानते हैं अयोध्या में मेरा बचपन बीता है और हनुमार जी में मेरी प्रमुख आस्था है। लेकिन ये कार्यक्रम पहले से तय था। जहां तक आपको बहुत जिज्ञासा है मैं इतना कहना चाहता हूं, क्षमा बड़न को चाहिए, छोटन को उत्पात, कह रहीम प्रभू का घट्यौ, जो भृगु मारी लात। 

मां ईंट भट्टे पर करती रहीं काम, पास बने पानी से भरे गड्ढे में डूबकर चार मासूमों की मौत

इसके बाद उन्होंने कहा कि जिसका जो स्वभाव है, मेरा स्वभाव है मानव कल्याण का, मेरा स्वभाव है समाज कल्याण, मेरा स्वभाव है बच्चों के भविष्य सुधारने का, मैं अपना काम करता रहूंगा और जिसको जो करना है करता रहे। मुझे न किसी से द्वेष है, न कोई बैर है, न कोई भाव है, न बदला लेना है। बस न्यायपालिका पर भरोसा है, न्यायपालिका ने निर्णय दिया। बहुत बहुत धन्यवाद।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें