DA Image
2 जून, 2020|9:18|IST

अगली स्टोरी

नौ महीने के मासूम के फेफड़े के पास फंसे थे कंकड़, बीआरडी के डॉक्‍टरों नेे दिया जीवनदान

बीआरडी मेडिकल कॉलेज के ईएनटी के डॉक्टरों ने नौ महीने के मासूम की जिन्दगी बचा ली है। सांस की नली को पार कर फेफड़े के पास फंसे दो कंकड़ को दूरबीन विधि से निकालकर सफल ऑपेरशन किया है। बच्चा अब पूरी तरह से स्वास्थ्य है। 

सिद्धार्थनगर के माधव सोहरघर निवासी कृष्ण मोहन का नौ माह का बेटा सुधांशु 11 मई को घर पर खेल रहा था। परिवारीजनों के मुताबिक खेलने के दौरान उसने मुंह में मिट्टी डाल ली। मिट्टी डालने के दौरान वह खांसने लगा। परिजनों ने मिट्टी निकालने की कोशिश की, तो दो कंकड़ सांस नली के अंदर फेफड़े तक चले गए। इस पर उसे सांस लेने में तकलीफ होने लगी और वह बुरी तरह से रोने लगा। परिजन सिद्धार्थनगर में एक निजी अस्पताल में लेकर गए। जहां डॉक्टरों ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। 

ईएनटी में हुआ ऑपरेशन
बीआरडी में पहुंचने पर नाक, कान गला रोग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. आरएन यादव ने बच्चे का तत्काल एक्स-रे कराया। डॉ. आरएन यादव ने बताया कि बच्चे के सांस की नली के नीचे दो टुकड़े थे। इसकी वजह से उसे सांस लेने में तकलीफ थी। जिसे दूरबीन विधि (ब्रांकोस्कोपी) से सावधानी पूर्वक निकाला गया। इसमें थोड़ा समय भी लगा। लेकिन अब बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ्य है। उन्होंने बताया कि टीम में एनेथिसिया के विभागाध्यक्ष डॉ. सतीश कुमार, डॉ. शाहबाज अहमद के साथ ही डॉ. वर्तिका तिवारी, डॉ. विनती जैन मौजूद रहीं।

कोरोना की कराई गई थी जांच
सांस लेने में हो रही तकलीफ को देखते हुए बीआरडी के डॉक्टरों ने बच्चे की एहतियात के तौर पर कोरोना की जांच कराई। कोरोना में रिपोर्ट निगेटिव आने पर उसका ऑपरेशन शुरू हुआ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:brd medical college doctors gave new life to innocent did his critical operation to remove stones from lungs