DA Image
30 जून, 2020|9:50|IST

अगली स्टोरी

बाॅयकाॅट चाइना : व्यापारियों ने चीन से 10 साल पुराना करार तोड़ा, अब बनाएंगे मेड इन इंडिया आइटम

गलवान घाटी में शहीद हुए भारतीय जवानों के प्रति श्रद्धांजलि देते हुए भारतीय कारोबारी चाइना से व्यापार समाप्त कर रहे हैं। अलीगढ़ की कोड़िया लॉक-हार्डवेयर फर्म ने चाइना से 10 साल पुराना करार तोड़ते हुए अब भारतीय उत्पाद बनाने का फैसला लिया है। इससे पहले भी शहर के कारोबारियों ने चाइना से व्यापार समाप्त किया है।

कारोबारी प्रदीप गर्ग व विनीत अग्रवाल ने 1991 में मोती मिल कंपाउंड में कोड़िया लॉक एंड हार्डवेयर फर्म की शुरुआत की थी। जिसके बाद उन्होंने चाइना से भी कई उत्पाद मंगाते हुए कारोबार को आगे बढ़ाया। करीब 10 साल पहले चाइना की एक फर्म से उनका हार्डवेयर उत्पादों को लेकर करार हुआ था। जिसके तहत वह ट्यूबलर लॉक, टेलिस्कोपी चैनल और ऑटो हिंजिस का माल मंगाते आए हैं। सालाना करीब पांच करोड़ से ज्यादा का कारोबार चाइना से होता रहा है। अब चाइना की हरकत को लेकर देशभर में गुस्से के माहौल है। ऐसे में फर्म ने चाइना से अपने व्यापारिक करार समाप्त कर दिया है। बीते दिनों चाइना से ऑर्डर के लिए आए ऑफर को भी ठुकरा दिया।

ऑटो इंडस्ट्रीज में रखा कदम :
कारोबारी प्रदीप गर्ग ने बताया कि लॉक-हार्डवेयर के बाद ऑटो इंडस्ट्रीज में कदम रखा है। हार्डवेयर कारोबार को भी दूसरी पीढ़ी के रूप में सजल गर्ग व अजित अग्रवाल संभाल रहे हैं। वहीं ऑटो इंडस्ट्रीज का व्यापार अयूर गर्ग देखते हैं। कारोबारी प्रदीप ने बताया कि उनका परिवार मूलरूप से कौड़ियागंज का है। जहां 1948 में यूपी का पहला मिनी शुगर प्लांट (खंडसारी यूनिट) प्रकाश शुगर उद्योग के नाम से पिता रामनिवेश गर्ग व ताऊ रामप्रकाश गर्ग ने लगाई थी।

डोकलाम प्रकरण के बाद से बनाना शुरू किया उत्पाद :
2017 में डोकलाम प्रकरण के बाद से चीन से कारोबार समेटने का निर्णय प्लस प्वाइंट बिल्ड्स वेयर प्राइवेट लिमिटेड के मालिक राजीव अग्रवाल ले चुके हैं। उन्होंने बताया कि अलीगढ़ के मैन्युफैक्चरर्स को कई बार चीन ले गए और वहां की तकनीक व मशीनों की जानकारी दिलाई। दूसरे मैन्युफैक्चरर्स के राजी न होने पर वर्ष 2018 में तालानगरी में एक और फैक्ट्री बनाकर आधुनिक मशीन लगाईं। एक फैक्ट्री पला रोड पर पहले से ही है। दूसरी फैक्ट्री में उत्पादन शुरू होने के साथ ही चीन के कारोबारियों से दूरी बनाना शुरू कर दिया। जहां दरवाजे में लगाने वाली चटकनी, एलड्रोप,  डिंपल लॉक, पर्दे की रॉड, फर्नीचर फिटिंग आदि उत्पाद तैयार होते हैं।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Boycott China Traders break 10-year-old agreement with China will now make Indian products not use Made in China product Made in India