DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लापरवाही: प्राइमरी स्कूलों में बच्चों को बांटे जा रहे एक ही पैर के दोनों जूते

  ht file photo

उत्तर प्रदेश के परिषदीय स्कूलों में बच्चों को एक ही पैर के जूते बांटे जा रहे हैं। गड़बड़ी यहीं तक रहती तो गनीमत थी। कई जोड़े जूते ऐसे भी मिले जिनमें एक पैर का जूता लड़की का और दूसरा लड़के का था। यही नहीं, दोनों जूते अलग-अलग कंपनियों के  हैं। पूरे प्रदेश में  एक करोड़ साठ लाख छात्रों को स्कूल ड्रेस के साथ एक जोड़ी जूता व दो जोड़ी मोजे दिए जाने हैं।

10 हजार से अधिक जूतों में गड़बड़ी की शिकायत

 शिक्षकों का कहना है कि लखनऊ में अब तक जितने भी जूते वितरित किए गए हैं, उनमें तीस प्रतिशत जूतों में किसी न किसी प्रकार की गड़बड़ी सामने आ रही है। दस हजार से अधिक जूतों में गड़बड़ी की शिकायत सामने आई है। इसके अलावा मोजों की गुणवत्ता भी बहुत खराब है।  लखनऊ में प्राइमरी व उच्च प्राइमरी मिलाकर कुल 1,839 स्कूल हैं। इनमें एक लाख 42 हजार छात्र-छात्राओं को संपूर्ण स्कूल ड्रेस यानी यूनिफार्म, बैग, जूते व मोजे वितरित किए जाने हैं। 

दोनों जूते एक ही पैर के

शिक्षकों का कहना है कि बच्चों को जो जूते वितरित  किए जा रहे हैं, उनमें अधिकतर दोनों जूते एक ही पैर के निकल रहे हैं। इसके अलावा कई बाक्स से अलग-अलग कंपनियों के जूते निकले हैं, जिनके डिजाइन में काफी फर्क है।  कई बाक्स में तो एक पैर का जूता लड़की का और एक पैर का जूता लड़के का निकला है। साइज को लेकर भी काफी गड़बड़ियां सामने आ रही हैं। ऐसे में नए जूते मिलने के बाद बच्चों को पुराने जूतों में ही स्कूल आना पड़ रहा है।

 

डेढ़ करोड़ बच्चों को बंटने हैं जूते 

प्रदेश के एक करोड़ साठ लाख छात्रों को जूते वितरित किए जाने हैं। इसके लिए सरकार ने पहले चरण में तीन सौ करोड़ रुपये का बजट पास किया है। पहले जूता आपूर्ति का काम एक कंपनी को दिया गया था लेकिन जानकारों का कहना है कि इस बार यह काम दस अलग-अलग कंपनियों को दिया गया है। 

निकलने लगे धागे

छात्रों ने शिकायत की है कि दस दिनों में जूतों के धागे निकलना शुरू हो गए हैं। शिक्षकों ने इसकी जानकारी अपने उच्चाधिकारियों को दे दी है। बच्चों को जो मोजे वितरित किए जा रहे हैं, उनकी गुणवत्ता भी बहुत खराब है। 

खामियां मिलने पर जांच होगी

निदेशक बेसिक शिक्षा  सर्वेंद्र विक्रम सिंह के अनुसार, जूता वितरण में इस तरह की खामियां सामने आने पर बीएसए स्तर पर उसकी जांच कराई जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Both shoes of same foot being distributed to children in primary schools in up