ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी में क्यों कम हो गईं भाजपा की सीटें? हापुड़ मीटिंग में प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने बताया कारण

यूपी में क्यों कम हो गईं भाजपा की सीटें? हापुड़ मीटिंग में प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने बताया कारण

2019 की अपेक्षा इस बार के लोकसभा चुनाव में भाजपा की सीटें आधी रह गई। यूपी में भाजपा की हार की वजह तो कई बताई जा रही हैं। इसको लेकर भाजपा पिछले दिनों समीक्षा भी कर चुकी है।

यूपी में क्यों कम हो गईं भाजपा की सीटें? हापुड़ मीटिंग में प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने बताया कारण
state-bjp-chief-bhupendra-singh-chaudhary--ht-file jpg
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,हापुड़Sat, 22 Jun 2024 08:37 PM
ऐप पर पढ़ें

2019 की अपेक्षा इस बार के लोकसभा चुनाव में भाजपा की सीटें आधी रह गई। यूपी में भाजपा की हार की वजह तो कई बताई जा रही हैं। इसको लेकर भाजपा पिछले दिनों समीक्षा भी कर चुकी है। यूपी में भाजपा की हार का असली कारण क्या रहा? इसको लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने विस्तार से बताया। हापुड़ पहुंचे भूपेन्द्र चौधरी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की सीटों को जीतने का एक लक्ष्य था। केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार के काम पर लोगों के बीच जाकर वोट मांगे, लेकिन ऐसा लगता है कि वे अपनी बात को जनता के समक्ष ज्यादा अच्छे तरीके से नहीं रख पाए। विपक्ष के लोगों ने नकारात्मक एजेंडा और लोगों को गुमराह करने का काम किया।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपे‌न्द्र चौधरी और प्रदेश महामंत्री(संगठन) धर्मपाल सिंह ने शनिवार को लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में हार के बाद पश्चिम, ब्रज और कानपुर क्षेत्र की लोकसभा सीटों व विधानसभा सीटों के विस्तारकों के साथ हापुड़ के गढ़ रोड स्थित दयाल रिजेंसी में समीक्षा बैठक कर रहे थे। भूपेन्द्र चौधरी ने कहा कि जनता के जनादेश का वे सम्मान करते हैं और तीसरी बार केंद्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनी है। उन्होंने कहा कि अब बूथ स्तर से पार्टी को मजबूत करना है। लोगों तक पार्टी के कामों को लेकर जाना है।

संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि प्रदेश की जनता ने भाजपा को 44 फीसदी वोट दिया है, जबकि गठबंधन को 43 फीसदी वोट किया है। इससे साफ जाहिर होता है कि प्रदेश की जनता भाजपा पर भरोसा करती है। उन्होंने कहा कि अब फिर से जनता के बीच जाना है और जनता की समस्याओं को सुनकर उनका निस्तारण कराना है। प्रदेश उपाध्यक्ष और विस्तारक प्रभारी विजय बहादुर पाठक ने कहा कि भाजपा सरकार ने चुनाव से पहले जनता से जो वादा किया है, उसे पूरा करना है। बैठक में कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा उत्तर प्रदेश में 78 सीटों पर चुनाव लड़ी थी। इसमें 62 सीटों पर भाजपा कमल खिलाने में सफल रही थी,जबकि भाजपा के साथ चुनाव लड़ रही अपना दल एस को दो सीट मिली थी।

2024 के लोकसभा चुनाव में भाजपा को उत्तर प्रदेश में कुछ सीटें गंवानी पड़ गई। भाजपा 62 सीटों से 33 सीटों पर सिमट गई। भाजपा के साथ चुनाव लड़ रही रालोद को दो और अपना दल एस को एक सीट मिली है। अब भाजपा को प्रदेश में बूथ स्तर से मजबूत करने का प्रदेश व क्षेत्रीय नेताओं ने आह्वान किया। इस मौके पर प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक, प्रदेश मंत्री अर्चना मिश्रा, पउप्र क्षेत्रीय अध्यक्ष सतेन्द्र सिसौदिया, क्षेत्रीय महामंत्री डा.विकास अग्रवाल, हरीश ठाकुर, जिला प्रभारी एवं प्रदेश उपाध्यक्ष सतपाल सैनी, जिलाध्यक्ष हापुड़ नरेश तोमर आदि शामिल रहे।  

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने पार्टी के खिलाफ नाकारात्मक काम करने वालों पर कार्यवाही का दिया अल्टीमेटम:

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र चौधरी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में पार्टी के खिलाफ नाकारात्मक काम करने वालों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। उनके खिलाफ अनुशासनहिनता की कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि इसकी समीक्षा भी की जा रही है।

तीनों क्षेत्र की सीटों के विस्तारकों से ली जानकारी--

प्रदेश अध्यक्ष भूपेन्द्र चौधरी, प्रदेश महामंत्री(संगठन) धर्मपाल सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष और क्षेत्रीय अध्यक्ष प्रदेश पदाधिकारियों ने एक साथ तीन अलग अलग हॉल में पश्चिमी क्षेत्र की 14 लोकसभा सीट , ब्रज क्षेत्र की 13 लोकसभा सीट और  कानपुर क्षेत्र की 10 लोकसभा सीटों के विस्तारकों के साथ बैठक की। जिसमें प्रत्येक लोकसभा और विधानसभा विस्तारकों से हार-जीत को लेकर पूरी तरीके से संगठन, विधायक और पदाधिकारियों द्वारा किए गए कार्यों के विषय में विस्तारपूर्वक चर्चा हुईं।

विस्तारकों का हुआ सम्मान

वेस्ट यूपी की गाजियाबाद, मेरठ और अमरोहा सीटों पर भाजपा ने जीत हासिल की है। इसके अलावा गौतमबुद्धनगर, बुलदंशहर, बागपत, अलीगढ़, मथुरा पर भी जीत हासिल की है। 2024 में मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, मुरादाबाद, रामपुर समेत कई सीट हार गई है, जिसको लेकर मंथन हुआ। बैठक में सभी विस्तारकों का सम्मान किया गया। इस समीक्षा बैठक में आए लोकसभा और विधानसभा के विस्तारकों का सम्मान किया गया। कानपुर और ब्रज क्षेत्र की सभी सीटों पर लोकसभा और विधानसभा विस्तारकों से प्रत्येक बिंदुओं पर गहनता सं मंथन किया गया।