DA Image
1 जनवरी, 2021|8:02|IST

अगली स्टोरी

पश्चिम बंगाल में ममता नहीं हिंसा का राज: कैलाश विजय वर्गीय

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और‌ पश्चिम बंगाल के पार्टी प्रभारी कैलाश विजय वर्गीय ने कहा कि पश्चिम बंगाल में भले ही ममता बनर्जी की सरकार हो लेकिन वहां ‘ममता’ नाम की चीज नहीं है। पूरे राज्य में सिर्फ हिंसा ही हिंसा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में पश्चिम बंगाल में होने वाले चुनाव में भाजपा पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी। 

विजय वर्गीय कोलकाता से शुक्रवार को अचानक गोरखनाथ मंदिर पहुंचे थे। जहां वैदिक मंत्रोच्चार के बीच उन्होंने गुरु गोरखनाथ का दर्शन पूजन कर अखण्ड ज्योति का भी दर्शन किया। ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ एवं ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की समाधि पर माथा टेका। मीडिया कर्मियों से मुखातिब भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विजय वर्गीय ने कहा कि पश्चिम बंगाल के संग्राम में जीत के लिए बाबा गोरखनाथ का दर्शन एवं आशीर्वाद से काफी ऊर्जा मिलेगी। भाजपा वहां परचम फहराने में सफल होगी। उन्होंने कहा कि यह स्थान बड़े गुरु जी यानी ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की तपोस्थली है। यहां से उन्होंने राष्ट्र चेतना का मंत्र फूंका। यह भाव और आनंद वही महसूस कर सकता है जो यहां आकर उनके चरणों में प्रणाम करता है। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल को जीतना और भारत को दुनिया का सर्वशक्तिशाली देश बनाना प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का लक्ष्य है। भाजपा इस लक्ष्य को हर हाल में हासिल करेगी। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र की स्थापना समय की मांग है। इसे भाजपा ही पूरा कर सकती है। 

पहली बार गुरु गोरखनाथ का किया दर्शन
विजय वर्गीय के आगमन की जानकारी गोरखनाथ मंदिर प्रबंधन को पहले ही मिल गई थी, लिहाजा उनके स्वागत की तैयारियां भी थी। जैसे ही कैलाश विजयवर्गीय गोरखनाथ मंदिर पहुंचे, गोरखनाथ मंदिर के प्रधान पुजारी योगी कमलनाथ, महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के अध्यक्ष प्रोफेसर यूपी सिंह, मंदिर सचिव द्वारिका तिवारी, डॉ प्रदीप राव एवं वीरेंद्र सिंह ने उनका स्वागत किया। उनके साथ गोरखपुर एयरपोर्ट से भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धमेंद्र सिंह भी साथ ही आए थे। वैदिक मंत्रोच्चार के बीच राष्ट्रीय महासचिव ने गोरखनाथ मंदिर में गुरु गोरखनाथ का दर्शन पूजन कर अखण्ड ज्योति के भी दर्शन किए। उन्होंने ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ एवं ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की समाधि पर माथा टेका। उसके बाद मंदिर परिसर का भ्रमण का अपनी जिज्ञाशा शांत की। मंदिर से विदा होने के पूर्व गोरक्षपीठाधीश्वर कक्ष में उन्हें अंगवस्त्र एवं प्रसाद श्रद्धा के साथ मिला। मंदिर दर्शन के बाद कैलाश विजयवर्गीय काफी प्रफुल्लित दिख रहे थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:bjp national secretary kailash ijay vargiye reached gorakhpur said not mamta violence rule in west bangal