DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  सीएम साहब! तड़प कर मर गया कार्यकर्ता, CMO ने फोन तक नहीं उठाया, भाजपा नेताओं ने खोली सिस्टम की पोल 

उत्तर प्रदेशसीएम साहब! तड़प कर मर गया कार्यकर्ता, CMO ने फोन तक नहीं उठाया, भाजपा नेताओं ने खोली सिस्टम की पोल 

बरेली। वरिष्ठ संवाददाताPublished By: Dinesh Rathour
Sat, 08 May 2021 11:45 PM
सीएम साहब! तड़प कर मर गया कार्यकर्ता, CMO ने फोन तक नहीं उठाया, भाजपा नेताओं ने खोली सिस्टम की पोल 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने केंद्रीय मंत्री, सांसद, विधायक समेत भाजपा नेताओं ने पूरी हकीकत खोलकर रख दी। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के बड़े अधिकारी फोन नहीं उठाते हैं। आंवला सांसद और जिलाध्यक्ष ने कहा कि कार्यकर्ता तड़प तड़प कर मर गया, लेकिन सीएमओ ने फोन नहीं उठाया। डीएम ने फोन उठाया, लेकिन कोई इंतजाम नहीं कराया। इसके अलावा विधायकों ने कहा कि आरटीपीसीआर की जांच रिपोर्ट पांच से छह दिन में आती है। तब तक पूरा परिवार संक्रमित हो चुका होता है। उन्होंने कहा कि जांच रिपोर्ट 48 घंटे में आ जाये। इससे संक्रमण को रोका जा सके।

आक्सीजन प्लांट लगाने वाले उद्योगों को दी जाये 50 फीसदी छूट
केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने कोरोना से लड़ने के लिए मुख्यमंत्री से आग्रह किया है कि मध्य प्रदेश की तरह आक्सीजन प्लांट लगाने वाले अस्पतालों को 50 फीसदी छूट दी जाये। इससे मेडिकल सुविधाओं में बढ़ोत्तरी होगी। अस्पतालों में उपयोग होने वाले मल्टी पैरामीटर, आक्सीमीटर, वेंटीलेटर व अन्य जरूरी उपकरण जो कोरोना की बीमारी में अति आवश्यक है। लेकिन व्यापारी इन्हें डेढ़ गुना रेट पर बेच रहे हैं। बरेली में खाली ऑक्सीजन सिलेंडर की बहुत कमी पड़ गयी है, जिसका मुख्य कारण   शहर के काफी लोगों में ऑक्सीजन सिलेंडर अपने घरों में एहतियात के तौर पर रख लिए है। ऐसे लोगों को चिन्हित किया जाए, जो बिना वजह सिलेंडर अपने पास रखे हुए हैं। जरूरतमंदों तक यह सुविधा नहीं पहुंच पा रही है। बरेली में मेडिकल से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण अधिकारी अपने फोन नहीं उठाते हैं। जिससे मरीजों को काफी असुविधा हो रही है। कोविड के मरीजों को सभी प्राइवेट अस्पतालों में भर्ती कराया जा सके और उन प्राइवेट अस्पतालों को कोविड की सुविधा भी दी जाए। आयुष्मान भारत से जुडे हुए है वहां पर भी वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन के साथ वैक्सीन उपलब्ध कराई जाये।

होटलों मे बनाये जाये कोविड हास्पिटल : भरतौल
भाजपा विधायक राजेश मिश्रा पप्पू भरतौल ने कहा कि लॉक डाउन के बाद से होटल आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। ऐसे में संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए होटलों को कोई भी हास्पिटल में बदला जाये। प्रदेश में टोल फ्री नंबर की सुविधा दी जाये। जिससे सरकार के प्रयासों को विफल करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जा सके। प्रदेश के मेडिकल कॉलेजों में इंटर्नशिप कर रहे छात्रों को अधिक से अधिक संख्या में अस्पतालों में नियुक्त किया जाये। रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वालों पर कार्रवाई होनी चाहिये। 

संक्रमण रोकने को बढ़ाया जाये लाकडाउन 
शहर विधायक डॉ अरुण कुमार ने कहा कि बरेली में 30 टन ऑक्सीजन की प्रतिदिन आवश्यकता है। ऑक्सीजन खत्म होने के बाद 30 से 36 घंटे में आक्सीजन उपलब्ध हो पाती है। इससे परेशानी बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि सरकारी, गैर सरकारी अस्पताल में मरीजों को छुट्टी करानी पड़ती है। बरेली में वेंटिलेटर, आईसीयू बेड, ऑक्सीजन बेड की बहुत ज्यादा कमी है। सभी प्राइवेट हॉस्पिटल नर्सिंग होम को कोविड-19 के लिए मरीजों को भर्ती करने की अनुमति दी जाये। संक्रमण बढ़ रहा है। इसे रोकने को लाकडाउन को बढ़ाना चाहिये।

संबंधित खबरें