ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशसुल्‍तानपुर के दामाद मोहन यादव को एमपी में सीएम बनाकर बीजेपी ने यूपी-बिहार तक मचाई खलबली

सुल्‍तानपुर के दामाद मोहन यादव को एमपी में सीएम बनाकर बीजेपी ने यूपी-बिहार तक मचाई खलबली

मध्‍य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री मोहन यादव सुलतानपुर के दामाद हैं। जबसे बीजेपी ने उन्‍हें सीएम बनाने का फैसला लिया है यूपी और बिहार तक राजनीतिक गलियारों में खलबली मची हुई है। जानें क्‍या है इसकी वजह?

सुल्‍तानपुर के दामाद मोहन यादव को एमपी में सीएम बनाकर बीजेपी ने यूपी-बिहार तक मचाई खलबली
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान,सुलतानपुरTue, 12 Dec 2023 03:26 PM
ऐप पर पढ़ें

MP New CM Mohan Yadav: मध्यप्रदेश के नए मुख्यमंत्री मोहन यादव सुलतानपुर के दामाद हैं। जबसे बीजेपी ने उन्‍हें सीएम बनाने का फैसला लिया है यूपी और बिहार तक राजनीतिक गलियारों में खलबली मची हुई है। इन दोनों राज्‍यों में पिछले कुछ समय से जातीय जनगणना के जरिए ओबीसी पॉलिटिक्‍स को हवा देने की कोशिशें चल रही हैं।

तीन राज्‍यों में बीजेपी की बंपर जीत के पहले तक कई विश्‍लेषक बिहार में जातीय जनगणना के बाद 2024 के लोकसभा चुनाव के पहले यूपी-बिहार में मंडल सियासत की वापसी की भविष्‍यवाणी करने लगे थे लेकिन मध्‍य प्रदेश, राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ के नतीजों ने उन्‍हें गलत साबित कर दिया। अब बीजेपी ने मध्‍य प्रदेश में यूपी कनेक्‍शन वाले मोहन यादव को मुख्‍यमंत्री बनाकर हिन्‍दी पट्टी के राज्‍यों की ओबीसी पॉलिटिक्‍स में जबरदस्‍त दांव चल दिया है। जानकारों का मानना है कि यह दांव आने वाले वक्‍त में भगवा दल का मास्‍टर स्‍ट्रोक साबित हो सकता है। बीजेपी के हिन्‍दुत्‍व के मुकाबले जातीय समीकरणों का चक्रव्‍यूह तैयार करने के विपक्षी मंसूबों पर पानी फिर सकता है।

यह भी पढ़ें: मोहन यादव की ताजपोशी का ससुराल में मना जश्‍न 

साल-2017 में यूपी में बीजेपी की वापसी 15 वर्षों वर्ष बाद हुई थी। माना जाता है कि इस जीत के पीछे बीजेपी गैर-यादव-गैर-जाटव की आंतरिक रणनीति का बड़ा योगदान था। अब बीजेपी का यह नया पैंतरा उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बिहार में राष्ट्रीय जनता दल के वोट बैंक पर कितना असर करेगा? यह काबिलेगौर होगा। लेकिन इतना तो है कि उन्हें चिंता में जरूर डालेगा। भाजपा लोकसभा के 2024 में होने वाले चुनावों में इस फैसले के जरिये दोनों राज्यों में जाति को सर्वोपरि रख परिवारवाद की राजनीति करने वाले दलों के खिलाफ इस हथियार को इस्तेमाल करे तो हैरत नहीं।

इस कदम के राजनीतिक निष्कर्षों का विश्लेषण करने वालों का कहना है कि बीजेपी के फैसले का असर पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के साथ-साथ बिहार में भी महसूस किया जाएगा। बड़ी संख्या में यादव आबादी वाले दोनों राज्यों में 120 लोकसभा सीटें हैं। मोहन यादव की पत्नी सीमा, जिनकी पृष्ठभूमि भी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से है, उत्तर प्रदेश से हैं। मोहन यादव अगस्त 2022 में सुल्तानपुर में अपने 96 वर्षीय बीमार ससुर ब्रह्मदीन यादव से मिलने के लिए अपनी पत्नी के साथ राज्य के दौरे पर आए थे।

विधानसभा चुनाव से ही जारी हैं कोशिशें
वैसे बीजेपी 2022 विधानसभा चुनाव के पहले से ही यादव बेल्‍ट में सपा के आधार वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश कर रही है। उसे इसमें कुछ हद तक कामयाबी भी मिली। अपनी रणनीति के बल पर बीजेपी  समाजवादी पार्टी के पुनरुत्थान की भविष्यवाणियों को गलत साबित करने में कामयाब रही। अब मध्य प्रदेश के मनोनीत मुख्यमंत्री के यूपी-कनेक्ट के साथ, भाजपा निश्चित रूप से सबसे अधिक आबादी वाले राज्य में 2024 के लोकसभा चुनावों से पहले आक्रामक कदम उठाने की कोशिश करेगी, जहां अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी भाजपा की सबसे बड़ी विपक्ष है।

बीजेपी के एक वरिष्‍ठ पदाधिकारी ने 'हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स' से कहा, “यह सच है कि उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव का परिवार और बिहार में लालू यादव का परिवार अब तक के दो सबसे बड़े राजनीतिक परिवार हैं, जिनके प्रति यादव काफी हद तक वफादार रहे हैं। उत्तर प्रदेश भाजपा के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ''मध्य प्रदेश में एक यादव चेहरे को आगे बढ़ाकर, यह स्पष्ट है कि भाजपा अब पुरानी धारणाओं को खत्म करने का इरादा दिखा रही है।'' योगी 2.0 सरकार में एकमात्र यादव मंत्री, उत्तर प्रदेश के मंत्री गिरीश यादव ने कहा, "यह एक महान निर्णय है और हालांकि भाजपा जाति की राजनीति में विश्वास नहीं करती है, लेकिन यह कदम अब उस पार्टी को हटा देगा जो गर्व से यादव वफादारी का दावा करती है।" भाजपा के पास छह यादव विधायक हैं - यूपी से दो-दो विधायक, एमएलसी और राज्यसभा सदस्य हैं। 

यूपी पर फोकस 
केंद्र में जीत की हैट्रिक के लिए, भाजपा फिर से पार्टी शासित उत्तर प्रदेश पर बहुत अधिक भरोसा कर रही है, जहां यादव सबसे प्रमुख ओबीसी समूह हैं। उत्तर प्रदेश में लगभग 9% यादवों का इटावा, बदायूं, मैनपुरी, फ़िरोज़ाबाद, इटावा, मैनपुरी, फ़ैज़ाबाद, संत कबीर नगर, बलिया, जौनपुर और आज़मगढ़ सहित कई लोकसभा क्षेत्रों में लगभग निर्णायक प्रभाव है। जून 2022 में, सपा प्रमुख अखिलेश यादव द्वारा सीट खाली करने के बाद भाजपा के दिनेश लाल यादव 'निरहाऊ' ने लोकसभा उपचुनाव में आज़मगढ़ जीता।

मुलायम से मिलता है मोहन का एक गुण 
एमपी में मोहन यादव की ताजपोशी के बाद सियासत से लेकर उनसे जुड़ी हर बात की चर्चा हो रही है। कई लोग एक मामले में मुलायम सिंह यादव से उनके गुण मिलने की बात भी करने लगे हैं। एक भाजपा नेता ने कहा, "मोहनजी राज्य के कुश्ती संघों में भी काफी सक्रिय हैं, जो कि अखिलेश के पिता और राजनीतिक दिग्गज मुलायम सिंह यादव भी करते थे।"

उत्तर प्रदेश चुनावों में भाजपा की लगातार शानदार जीत के तुरंत बाद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए भाजपा के यादव फोकस का खुलासा किया था, जब उन्होंने पूर्व सांसद और करीबी चौधरी हरमोहन सिंह यादव की 10 वीं पुण्य तिथि के अवसर पर एक कार्यक्रम को संबोधित किया था। मुलायम सिंह यादव के सहयोगी. हरमोहन यादव महासभा के संस्थापक भी थे और उनके पोते मोहित यादव अब भाजपा में हैं। 2022 में यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी मुलायम की बहू अपर्णा यादव को अपनी ओर मिलाकर एक बड़ी रणनीतिक जीत हासिल करने में भी कामयाबी रही थी। 

मोहन यादव का सुल्‍तानपुर कनेक्‍शन
मोहन यादव की शादी 1994 में सुल्‍तानपुर के विवेकानंद नगर मोहल्ले में रहने वाले ब्रह्मानंद यादव की बेटी सीमा यादव से हुई थी। उनके ससुर बह्मानंद उस समय रीवां मध्यप्रदेश में एक इंटर कालेज में प्रधानाचार्य थे। उस समय मोहन विद्यार्थी परिषद के संगठन मंत्री थे। दोनों परिवार उसी समय संपर्क में आए। ब्रह्मानंद 1997 में रिटायर होने पर विद्याभारती और विश्व हिन्दू परिषद में पूर्णकालिक रहे। 1997 में रिटायर होने पर शहर के विवेकानंद नगर मोहल्ले में वर्ष 2002 से मकान बनवाकर रह रहे हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें