ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी में कुर्मी मतों का बिखराव रोकने में मददगार होंगे नीतीश, लाेकसभा चुनाव में भाजपा को कितना फायदा?

यूपी में कुर्मी मतों का बिखराव रोकने में मददगार होंगे नीतीश, लाेकसभा चुनाव में भाजपा को कितना फायदा?

बिहार में हुए राजनीतिक उलटफेर का लाभ लोकसभा चुनाव के दौरान यूपी के पूर्वांचल में भाजपा व उसके सहयोगी दलों को मिल सकता है। ³नीतीश कुमार के एनडीए का हिस्सा बन जाने के बाद से भाजपा के साथ ही ...

यूपी में कुर्मी मतों का बिखराव रोकने में मददगार होंगे नीतीश, लाेकसभा चुनाव में भाजपा को कितना फायदा?
Dinesh Rathourविशेष संवाददाता,लखनऊ।Sun, 04 Feb 2024 10:13 PM
ऐप पर पढ़ें

बिहार में हुए राजनीतिक उलटफेर का लाभ लोकसभा चुनाव के दौरान यूपी के पूर्वांचल में भाजपा व उसके सहयोगी दलों को मिल सकता है। ³नीतीश कुमार के एनडीए का हिस्सा बन जाने के बाद से भाजपा के साथ ही एनडीए के घटक दलों के कंधे से कुर्मी बिरादरी के मतों का बिखराव रोकने का बोझ हल्का हो गया है। सबसे अधिक राहत भाजपा की सहयोगी अपना दल (एस) जिसकी मजबूत पकड़ कुर्मी बिरादरी में मानी जाती है, को मिली है।

विपक्ष पूर्वांचल में नीतीश को सक्रिय करने में जुटा हुआ था 

नीतीश कुमार जब तक विपक्षी खेमे में थे, तब तक बार-बार विपक्ष यह रणनीति बना रहा था कि पूर्वांचल के कुर्मी बाहुल्य सीटों पर उन्हें लाया जाए। उन्हें पूर्वांचल की किसी सीट से प्रत्याशी तक बनाए जाने की कवायद भी चल रही थी। बिहार से सटा होने के कारण पूर्वांचल के कुर्मी बिरादरी के लोग नीतीश से अधिक जुड़ाव रखते हैं। लिहाजा, एनडीए गठबंधन के सामने कुर्मी मतों के बिखराव को रोकने की चुनौती थी। बीते विधानसभा चुनावों में माना जा रहा था कि कुर्मियों का वोट बाराबंकी से लेकर अयोध्या, गोंडा, बलरामपुर और अंबेडकरनगर में समाजवादी पार्टी के साथ चला गया था। साथ ही माना जा रहा था कि अपना दल (कमेरावादी) की कृष्णा पटेल के सपा में जाने से भी सपा को लाभ हुआ था। अगर पुरानी स्थिति ही बनी रहती तो भाजपा और उसके साथी दलों के लिए मुश्किलें बनी रहने की संभावना थी।

यूपी में 41 विधायक और 8 सांसद हैं कुर्मी बिरादरी से

यूपी में इस समय कुर्मी समाज से 41 विधायक और आठ सांसद हैं। केंद्र सरकार में यूपी से इस बिरादरी से अनुप्रिया पटेल और पंकज चौधरी राज्यमंत्री हैं। यूपी सरकार में तीन कैबिनेट मंत्री और एक राज्यमंत्री हैं। कुर्मी बिरादरी के नेताओं के मुताबिक यूपी की 33 लोकसभा सीटें ऐसी हैं, जहां पर कुर्मी मतदाताओं की संख्या अधिक है। इन सीटों में पूर्वांचल की प्रयागराज, फूलपुर, प्रतापगढ़, बस्ती, डुमरियागंज, जौनपुर, मछलीशहर, कुशीनगर, महाराजगंज, मिर्जापुर, वाराणसी, अयोध्या सीट पर कुर्मी बिरादरी बहुत मजबूत मानी जाती है। इसके अलावा बुंदेलखंड, रुहेलखंड क्षेत्र की भी कई सीटों पर इस बिरादरी का अधिक प्रभाव है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें