ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशधान बेचने वाले किसानों के लिए बड़ी राहत, मिलों का भी बढ़ेगा दायरा 

धान बेचने वाले किसानों के लिए बड़ी राहत, मिलों का भी बढ़ेगा दायरा 

अब किसानों केा अपना धान बेचने के लिए इंतजार नहीं करना होगा। क्रय केन्द्रों से धान की उठान तेज होगी क्योंकि अब बिना सार्टेक्स वाली चावल मिले भी धान खरीद में शामिल होंगी।

धान बेचने वाले किसानों के लिए बड़ी राहत, मिलों का भी बढ़ेगा दायरा 
Dinesh Rathourविशेष संवाददाता,लखनऊ Thu, 24 Nov 2022 07:49 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

अब किसानों केा अपना धान बेचने के लिए इंतजार नहीं करना होगा। क्रय केन्द्रों से धान की उठान तेज होगी क्योंकि अब बिना सार्टेक्स वाली चावल मिले भी धान खरीद में शामिल होंगी। वहीं एक मार्च, 2022 तक पंजीकृत एफपीओ व एफपीसी को भी खरीद में शामिल किया गया है। इस संबंध में राज्य सरकार ने धान खरीद नीति में संशोधन कर दिया है। सार्टेक्स वाली चावल मिलों की अनिवार्यता के कारण धान खरीद में दिक्कत आ रही थी। सार्टेक्स युक्त यानी अत्याधुनिक कैमरों से लैस मिले होती हैं जो मानकों के मुताबिक या दाग धब्बे वाले चावल को अलग करती जाती है। लेकिन इसकी अनिवार्यता के चलते खासकर पूर्वांचल में धान की उठान धीमी थी क्योंकि यहां लगभग 70 फीसदी मिले सार्टेक्सयुक्त नहीं है।

वहीं सार्टेक्स बड़ी मिलों में होता है जिनकी सरकारी काम में कोई दिलचस्पी नहीं होती है। इसके कारण क्रय केन्द्रों पर ट्रक खड़े रहते हैं और धान खरीद की गति धीमी रहती है। हालांकि इसमें यह शर्त जोड़ी गई है कि मिले अपने यहां छह महीने के अंदर सार्टेक्स स्थापित करा लेंगे। अभी तक 8.70 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद हो चुकी है। पिछले वर्ष भी धान खरीद में तेजी तभी आई थी जब ये सार्टेक्स की छूट  नीति में दी गई थी।