ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशभीषण गर्मी में बिजली आपूर्ति को लेकर कर्मचारियों को बड़ा आदेश, दो जून तक न करें यह काम

भीषण गर्मी में बिजली आपूर्ति को लेकर कर्मचारियों को बड़ा आदेश, दो जून तक न करें यह काम

भीषण गर्मी के चलते प्रदेश में बिजली की मांग बढ़ने से दिक्कत बढ़ रही है। ऐसी स्थिति में प्रदेशवासियों को बेहतर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के प्रयास पावर कारपोरेशन स्तर से हो रहे हैं।

भीषण गर्मी में बिजली आपूर्ति को लेकर कर्मचारियों को बड़ा आदेश, दो जून तक न करें यह काम
Dinesh Rathourविशेष संवाददाता,लखनऊ।Fri, 24 May 2024 11:00 PM
ऐप पर पढ़ें

भीषण गर्मी के चलते प्रदेश में बिजली की मांग बढ़ने से दिक्कत बढ़ रही है। ऐसी स्थिति में प्रदेशवासियों को बेहतर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के प्रयास पावर कारपोरेशन स्तर से हो रहे हैं। इसी क्रम में कारपोरेशन अध्यक्ष डा. आशीष कुमार गोयल ने प्रदेश की विद्युत आपूर्ति की समीक्षा में निर्देशित किया है कि आगामी 2 जून तक अपरिहार्य कारणों को छोड़कर शटडाउन से बचें।

उन्होंने निर्देश दिए कि स्थानीय दोषों को ठीक करने के लिए पर्याप्त गैंग, ट्राली ट्रांसफार्मर आदि सामग्री की व्यवस्था रहे। जिससे कम से कम समय में लोकल फॉल्ट ठीक कर विद्युत आपूर्ति सामान्य की जा सके। एसएलडीसी के आंकड़ों के हवाले से वर्तमान समय में प्रदेश में 24 घंटे विद्युत आपूर्ति का दावा किया गया है। अध्यक्ष ने निर्देशित किया है कि ट्रांसफार्मर क्षतिग्रस्त न हों इसके लिए संबंधित कार्मिक पूरी सावधानी बरतें। सुरक्षा एवं आवश्यक अनुरक्षण कार्य कराएं।

बिजली की खपत और मांग का बना नया रिकार्ड

पावर कारपोरेशन के इतिहास में अब तक अधिकतम 590.6 एमयू 20 मई को बिजली की खपत का रिकार्ड था। 22 मई को खपत 605.48 मेगावाट तक पहुंच गई है। इसी तरह बिजली की अधिकतम मांग का पिछले वर्ष 24 जुलाई 2023 को 28284 मेगावाट का रिकार्ड बना था लेकिन 22 मई 2024 को 28336 मेगावाट तक मांग पहुंच गई। जोकि एक नया रिकार्ड बन गया है। कारपोरेशन के अध्यक्ष डा. आशीष गोयल का कहना है कि मांग के अनुरूप बिजली की व्यवस्था की जा रही है। मांग बढ़ने पर अतिरिक्त बिजली की व्यवस्था भी की जाएगी। अध्यक्ष ने कहा है कि कहीं भी रोस्टिंग नहीं हो रही है। लोकल फाल्ट के कारण विद्युत आपूर्ति के बाधित होने की सूचनाएं हैं। इस संदर्भ में भी कड़े निर्देश दिये गये हैं कि जहां कहीं भी लोकल फाल्ट हो, उसे कम से कम समय में ठीक कर आपूर्ति बहाल की जाये।