ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशरियल टाइम खतौनी में बड़ी लापरवाही, 124 राजस्व अफसरों को मिला कारण बताओ नोटिस

रियल टाइम खतौनी में बड़ी लापरवाही, 124 राजस्व अफसरों को मिला कारण बताओ नोटिस

पश्चिमी यूपी व बुंदेलखंड के जिलों की भी समीक्षा के दौरान 13 जिलों में स्वामित्व योजना घरौनी की स्थिति खराब पाई गई। इसके लिए संबंधित जिलों के नोडल अपर जिलाधिकारियों को कारण बताओ नोटिस दिया गया है।

रियल टाइम खतौनी में बड़ी लापरवाही, 124 राजस्व अफसरों को मिला कारण बताओ नोटिस
Dinesh Rathourविशेष संवाददाता,लखनऊMon, 10 Jun 2024 09:48 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्व परिषद के अध्यक्ष डा. रजनीश दुबे ने रियल टाइम खतौनी की खराब स्थिति पर प्रदेश के 124 राजस्व अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस दिया है। राजस्व परिषद के अध्यक्ष ने 30 जून तक शत-प्रतिशत उद्योगों के लिए भू-उपयोग परिवर्तन के लटके मामलों को निस्तारित करने का निर्देश भी जिलों को दिया है। वाराणसी और प्रयागराज की स्थिति काफी खराब पाई गई है।

पश्चिमी यूपी व बुंदेलखंड के जिलों की भी समीक्षा के दौरान 13 जिलों में स्वामित्व योजना घरौनी की स्थिति खराब पाई गई। इसके लिए संबंधित जिलों के नोडल अपर जिलाधिकारियों को कारण बताओ नोटिस दिया गया है। रियल टाइम खतौनी में असंतोषजनक उपलब्धि पर 62 अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस दिया गया है। राजस्व वादों के निस्तारण में लापरवाही बरतने वाले सी श्रेणी के 26 एडीएम, सात एसडीएम, सात तहसीलदारों और नौ नायब तहसीलदारों को भी कारण बताओ नोटिस दिया गया है।

राजस्व परिषद के अध्यक्ष ने सोमवार को 36 जिलों के एडीएम व मुख्य राजस्व अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इसमें किसानों से जुड़ी समस्याओं पर चर्चा की और 30 जून तक रियल टाइम खतौनी का काम पूरा करने का निर्देश दिया है। विशेषकर प्रयागराज और वाराणसी जिलों की स्थिति खराब होने पर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा है कि पैमाइश, कब्जे और गांवों के सीमा स्तंभ का काम 30 जून तक पूरा कराया जाना है। प्रदेश में लगभग ढाई लाख क्षतिग्रस्त सीमा स्तंभों को दोबारा स्थापित करने का अभियान शुरू करते हुए एक माह में पूरा किया जाना है।