DA Image
25 अक्तूबर, 2020|1:43|IST

अगली स्टोरी

उत्तर प्रदेश में निवेश की इच्छुक है थाईलैंड की कैश एंड कैरी कंपनी

big c

थाईलैंड की कैश एंड कैरी क्षेत्र की प्रतिष्ठित बिजनेस हाऊस बिग-सी सुपररसेंटर ने प्रदेश में निवेश की इच्छा जाहिर की है। थाईलैंड की फूड प्रोसेसिंग, लाजिस्टिक, कंस्ट्रक्शन, केमिकल और टूरिज्म क्षेत्र से जुड़े वहां के कई उद्यमियों ने प्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर जानकारी ली है। मंगलवार को प्रदेश के सुक्ष्म, लघु एवं मद्यम उद्यम व निवेश एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह से वर्चुअल संवाद के दौरान थाईलैंड के उद्यमियों व निवेशकों ने निवेश की संभावनाओं पर वार्ता की। 

थाईलैंड के साथ हुए इस वर्चुअल संवाद में थाईलैंड में तैनात राजदूत सुचिता दुर्राई तथा वहां के उद्यमी व निवेशक जुड़े। मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि थाईलैंड के जिन उद्यमियों को अपने उद्यम के लिए कुशल मैनपावर की जरूरत हो, उसके लिए सूची दे दें। प्रदेश सरकार उस विधा के कुशल कारीगर तैयार कर थाईलैंड भेजेगी। यह भी सुझाव दिया कि थाईलैंड के जो बच्चे चीन में पढ़ते हैं उनको विशेष कार्यक्रम के तहत यूपी भेजें। मंत्री ने थाईलैंड और उत्तर प्रदेश के बीच इंडस्ट्री और बिजनेस काउंसिलिंग की स्थापना किए जाने की बात कही। इस संवाद के दौरान थाईलैंड के प्रतिनिधियों ने कहा कि कुशीनगर एअरपोर्ट के बनने से यूपी में टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा। थाईलेंड से अधिक से अधिक लोग कुशीनगर के साथ ही यूपी के भ्रमण पर आ सकेंगे। उद्यमियों ने कहा कि उत्तर प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में निवेश की अच्छी संभावना है। 

वर्चुअल रोड-शो के बाद अमेरिकी कंपनियां निवेश की इच्छा जताई
मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने अमेरिकी में कामर्शियल काउंसलर ऑफ इंडियन एंबेसी डा. मनोज महापात्रा से भी वर्चुअल मीटिंग की। चीन में स्थित अमेरिकी कंपनी हनीवेल, बोइंक आदि कंपनियां जो वहां से पलायन कर रही हैं उन्हें यूपी में लाने पर चर्चा की। मंत्री ने कहा कि पूर्व में अमेरिकी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए किए गए वर्चुअल रोड-शो के सकारात्मक परिणाम मिल रहे हैं। अमेरिकी उद्योगपतियों ने प्रदेश में निवेश करने की इच्छा जताई है। मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश में फार्मासिटिकल पार्क की स्थापना कराई जा रही है। अमेरिका की मेट्रानिक्स तथा माईलेन कंपनी से बातचीत चल रही है। शिक्षा के क्षेत्र में अमेरिकन यूनिवर्सिटी और उत्तर प्रदेश की यूनिवर्सिटी के बीच वेंचर्स स्थापित करते हुए ट्विनिंग प्रोग्राम शुरू करने पर पर भी चर्चा की गई। 

संवाद के दौरान डॉ. महापात्रा ने कहा कि जो अमेरिकी निवेशक यूपी में निवेश के लिए इच्छुक हैं, उनकी सूची दूतावास को दी जाए। वह खुद ही इन कंपनियों से यूपी में निवेश के लिए सकारात्मक बातचीत करेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि 80 से 100 अमेरिकी कंपनियां भारत में निवेश करना चाहती हैं, जिनसे वह लगातार संपर्क में हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Big C company of Thailand is keen to invest in Uttar Pradesh