ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशचुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व विधायक सोनू सिंह ने ज्वाइन की सपा, 2019 में दी थी मेनका गांधी को कड़ी टक्कर

चुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व विधायक सोनू सिंह ने ज्वाइन की सपा, 2019 में दी थी मेनका गांधी को कड़ी टक्कर

छठे चरण की वोटिंग से ठीक पहले भाजपा प्रत्याशी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बाहुबली पूर्व विधायक चंद्रभद्र सिंह सोनू सिंह ने सपा ज्वाइन कर ली है। अखिलेश को बुके देते फोटो भी वायरल हुई है।

चुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व विधायक सोनू सिंह ने ज्वाइन की सपा, 2019 में दी थी मेनका गांधी को कड़ी टक्कर
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,सुलतानपुरTue, 21 May 2024 09:56 PM
ऐप पर पढ़ें

छठे चरण की वोटिंग से ठीक पहले भाजपा प्रत्याशी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बाहुबली पूर्व विधायक चंद्रभद्र सिंह सोनू सिंह ने सपा ज्वाइन कर ली है। समाजवादी पार्टी के ट्वीटर हैंडल से अखिलेश यादव को बुके देते हुए की उनकी एक फोटो शेयर की गई है। बता दें कि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए भाजपा की मेनका गांधी को कड़ी टक्कर दी थी। अंत में वो 14 हजार से चुनाव लूज़ कर गए थे। धनपतगंज ब्लॉक के मायंग निवासी चंद्रभद्र सिंह उर्फ सोनू सिंह ने पुराने घर में वापसी कर ली है। वर्ष 2002 में उन्होंने सपा के टिकट पर इसौली सीट से पहली बार जीत दर्जकर विधान सभा में कदम रखा।

2007 में भी वे सपा से जीते लेकिन अंत में 2009 में उनसपा को अलविदा कहकर बसपा का दामन थामा। इसी वर्ष उप चुनाव हुआ उन्होंने बसपा से रिकार्ड जीत दर्ज कराया। लेकिन 2012 में वो पीस पार्टी में चले गए। इस वर्ष उन्होंने सुल्तानपुर और उनके अनुज यशभद्र सिंह मोनू ने इसौली से चुनाव लड़ा। दोनों हारे जरूर लेकिन भाजपा और बसपा की जीत में रोड़ा बन गए। 

इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव के समय उन्होंने भाजपा ज्वाइन किया। वरुण गांधी की जीत में दोनों भाइयों का बड़ा योगदान रहा। लेकिन 2017 आते आते दोनों से वरुण ने किनारा कर लिया। 2017 में मोनू ने इसौली से लोकदल के बैनर तले चुनाव लड़ा और हार गए। इसके बाद 2019 में चंद्रभद्र सिंह बसपा के टिकट पर मेनका गांधी के मुकाबले पर उतरे। पराजित अवश्य हुए लेकिन मेनका गांधी को कड़ी टक्कर दिया। यही वजह रही कि मेनका ने सांसद रहते हुए पांच साल दोनों भाइयों का जमकर विरोध किया। लेकिन अब उनकी सपा में इंट्री पहले से चुनाव लूज़ कर रही भाजपा के लिए और मुश्किल खड़ी कर गई है।