DA Image
Saturday, November 27, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशसरयू नदी के दबाव से भिखारीपुर-सकरौर बंधा कटा, गोंडा के 50 गांवों में घुसा पानी

सरयू नदी के दबाव से भिखारीपुर-सकरौर बंधा कटा, गोंडा के 50 गांवों में घुसा पानी

हिन्दुस्तान टीम,गोंडाDeep Pandey
Thu, 06 Aug 2020 05:44 PM
सरयू नदी के दबाव से भिखारीपुर-सकरौर बंधा कटा, गोंडा के 50 गांवों में घुसा पानी

उफनाई सरयू नदी की तेवरों के चलते यहां उमरी क्षेत्र के विशुनपुर गांव के निकट भिखारीपुर-सकरौर बंधा कट गया है। गुरुवार को नदी का डिस्चार्ज तेजी से कम होने के चलते कटान में तेजी आई और सुबह से बंधे पर दबाव बना हुआ था। हालांकि नदी के खतरे के निशान से दो सेमी नीचे बह रही है।

विभाग के अभियंता व प्रशासन पूरे दिन बंधे के बचाव के लिए जूझते रहे। लेकिन सायं चार बजे के करीब नदी की तेज कटान ने पूरे बंधे को समेट लिया और तेज धारा गांवों की ओर बढ़ चली। देखते ही देखते बंधे के कटान स्थल के मुहाने पर विशुनपुर समेत 50 गांवों में तेजी से नदी का पानी फैलने लगा।

वहीं बाढ़ खंड के एई रवि नरायन का कहना है कि भिखारीपुर-सकरौर बंधे की सुरक्षा के लिए फ्लड कार्यों को युद्धस्तर पर कराने के बावजूद नदी का दबाव बना हुआ था।  

केन्द्रीय जल आयोग के नया घाट, अयोध्या कार्यालय के मुताबिक गुरुवार को दोपहर दो बजे सरयू नदी खतरे के निशान से दो सेमी नीचे बह रही है। वहीं जल आयोग के एल्गिन ब्रिज कार्यालय के अनुसार घाघरा नदी  लाल निशान से अभी भी 50 सेमी ऊपर बह रही है। नदी का कुल डिस्चार्ज 2,73632 क्युसेक है। नदियों का जलस्तर तेजी से कम होने के चलते कटान में तेजी आई है।

मांझा क्षेत्र के ग्रामीण बंधा कटने से बाढ़ की तबाही लेकर खौफजदा हैं। दर्जनों गांवों के लोगों ने सुरक्षित स्थानों पर ठिकाना बना लिया है। भिखारीपुर बंधे पर विशुन गांव के निकट तेज कटान दो दिन पहले भी हुई थी, तब प्रशासन व विभाग के लोगों ने मिलकर बचा लिया था। लेकिन गुरुवार को दोपहर से नदी का जलस्तर तेजी से कम होने कटान फिर शुरू हो गई। उधर, आसपास के ग्रामीणों ने बंधे कटने के नाजुक हालत को देखकर जरुरी सामानों को सुबह से ही घरों से निकालकर सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाने का काम शुरु कर दिया है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें