ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशभाकियू का ऐलान : कृषि कानून के विरोध में आज चार घंटे रेल रोकेंगे किसान

भाकियू का ऐलान : कृषि कानून के विरोध में आज चार घंटे रेल रोकेंगे किसान

भाकियू ने गुरुवार को चार घंटे रेल रोको आंदोलन का ऐलान किया है। दोपहर 12 बजे से अपराह्न चार बजे भाकियू के नेतृत्व में किसान कैंट स्थित रेलवे फाटक पर धरना देकर कृषि कानूनों का विरोध करेंगे। भाकियू...

भाकियू का ऐलान : कृषि कानून के विरोध में आज चार घंटे रेल रोकेंगे किसान
Dinesh Rathourमेरठ। मुख्य संवाददाताThu, 18 Feb 2021 12:02 AM
ऐप पर पढ़ें

भाकियू ने गुरुवार को चार घंटे रेल रोको आंदोलन का ऐलान किया है। दोपहर 12 बजे से अपराह्न चार बजे भाकियू के नेतृत्व में किसान कैंट स्थित रेलवे फाटक पर धरना देकर कृषि कानूनों का विरोध करेंगे। भाकियू जिलाध्यक्ष मनोज त्यागी ने बताया कि कृषि कानूनों के विरोध में गुरुवार को राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत रेल रोको आंदोलन होगा। रेल रोक कर किसान कृषि कानूनों का विरोध करेंगे। राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम के तहत मेरठ और आसपास में भी रेल रोको आंदोलन होगा।

उन्होंने कहा कि भाकियू मेरठ में मंडल, जिला, तहसील, ब्लाक के पदाधिकारी, कार्यकर्ताओं व किसानों को राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत और संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर गुरुवार दोपहर 12 बजे से शाम चार बजे तक रेल रोको आंदोलन में शामिल होने को कहा गया है। मेरठ में कैंट स्थित रेलवे फाटक कंकरखेड़ा पर रेल रोक कर कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन किया जाएगा। भाकियू के सभी पदाधिकारी, कार्यकर्ता व किसानों से अनुरोध किया गया है कि 11 बजे तक मेरठ कैंट रेलवे फाटक पर अधिक से अधिक संख्या में पहुंचें। उधर, भाकियू के आंदोलन को लेकर पुलिस, प्रशासन सतर्क है।

किसानों के रेल रोको आंदोलन को लेकर अलर्ट, स्टेशनों पर फोर्स तैनात
किसान संगठनों ने 18 फरवरी को चार घंटे रेल रोकने का ऐलान किया है। इसे लेकर आरपीएफ और जीआरपी अलर्ट हो गई हैं। किसान रेलवे ट्रैक तक न पहुंच पाएं, इसको लेकर योजना तैयार की जा रही है। मेरठ के सभी स्टेशनों पर सुरक्षा कड़ी रहेगी। अतिरिक्त फोर्स भी मांगा गया है। हालांकि किसानों ने केवल मेरठ कैंट स्टेशन पर ट्रैक पर बैठकर धरना देने का ऐलान किया है लेकिन एहतियात के तौर पर मेरठ के सभी स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ा दी गईहै। 

सभी स्टेशनों पर गुरुवार सुबह से आरपीएफ और जीआरपी के जवान तैनात रहेंगे। आरपीएफ को रेलवे ट्रैक की निगरानी के लिए लगाया जाएगा। कंफर्म टिकट वाले यात्री ही स्टेशन पर जाएंगे। 18 फरवरी के लिए सभी जीआरपी थाना प्रभारियों को अलर्ट कर दिया गया है। ऐसे स्थानों को चिन्हित किया गया है, जहां से रेलवे ट्रैक पर जाया जा सकता है। जीआरपी के साथ आरपीएफ भी मुस्तैद है। रेल परिचालन में किसी भी प्रकार की बाधा डालने वालों के खिलाफ रेल अधिनियम के तहत कानूनी कार्रवाई का प्रावधान है। 

epaper