ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशलोकसभा चुनाव से पहले विरोधियों को लगातार झटके देगी बीजेपी, दूसरे दल के मजबूत चेहरों पर है पार्टी की नजर

लोकसभा चुनाव से पहले विरोधियों को लगातार झटके देगी बीजेपी, दूसरे दल के मजबूत चेहरों पर है पार्टी की नजर

बीजेपी लोकसभा चुनाव से पहले विरोधियों को लगातार झटके देगी। इसके लिए पार्टी दूसरे दलों के जनाधार वाले चेहरों को शामिल कराएगी।

लोकसभा चुनाव से पहले विरोधियों को लगातार झटके देगी बीजेपी, दूसरे दल के मजबूत चेहरों पर है पार्टी की नजर
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊWed, 31 Jan 2024 07:50 AM
ऐप पर पढ़ें

भारतीय जनता पार्टी की योजना लोकसभा चुनाव तक अपने विरोधियों को लगातार झटके देने की है। इसके लिए पार्टी दूसरे दलों के जनाधार वाले चेहरों को शामिल कराएगी। ज्वाइनिंग का यह सिलसिला जिले से लेकर प्रदेश स्तर तक चलेगा। तय कर दिया गया है कि किस स्तर के नेताओं की ज्वाइनिंग कहां होगी। सभी जिलों को चुनाव में वोटों और माहौल बनाने की दृष्टि से मददगार चेहरों की सूची तैयार करने के निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं। दो फरवरी से होने वाले विधानसभा सत्र के दौरान ही दूसरे दलों को शामिल कराने का सिलसिला एक बार फिर शुरू होने वाला है।

सरकार और संगठन के स्तर पर चुनावी तैयारियों में जुटी भाजपा ने अब अपना कुनबा और बढ़ाने का फैसला किया है। एक ओर पार्टी नमो एप के जरिए लोगों को जोड़ने की मुहिम चला रही है, वहीं दूसरे दलों को भी बड़े पैमाने पर पार्टी में शामिल कराने की योजना है। पार्टी ने इसके लिए प्रदेश स्तर पर उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के नेतृत्व में ज्वाइनिंग कमेटी का भी गठन किया है। इसमें प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रज बहादुर सहित कई अन्य लोग शामिल हैं। पार्टी वार्ड से लेकर जिला, क्षेत्र और प्रदेश स्तर पर ऐसे चेहरों को चिन्हित कर रही है, जिनके आने से चुनावी लाभ होगा।
विधायकों की फिलहाल एंट्री नहीं
दो तरह की सूची तैयार कराई गई हैं। पहली वो, जो लोग पार्टी में आने के इच्छुक हैं। दूसरी वो, जिन्होंने आने के लिए संपर्क तो नहीं किया लेकिन उनके आने से सियासी संदेश दिया जा सकेगा। इसमें सामाजिक समीकरणों का भी खास ध्यान रखा जा रहा है। इसके अलावा पार्टी ने निकाय चुनाव में बगावती तेवर दिखाने वालों की वापसी को भी हरी झंडी दे दी है। लखनऊ स्तर पर इसकी शुरुआत भी हो चुकी है। 
पार्टी सूत्रों की मानें तो कई विधायकों ने भी बीते दिनों भाजपा में आने के लिए संपर्क साधा था। मगर पार्टी घोसी सीट के बाद अब कहीं उपचुनाव कराने की पक्षधर नहीं है। ऐसे में विधायकों की ज्वाइनिंग अभी नहीं कराने का फैसला किया गया है। कई गैरभाजपाई सांसद भी भगवा ओढ़ने के इच्छुक हैं मगर अभी उन्हें टिकट की गारंटी नहीं मिल पाई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें