ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशवर्दीधारियों ने किसान को पीटने के बाद शांतिभंग में किया चालान, हंगामें के बाद सीओ ने लिया एक्शन

वर्दीधारियों ने किसान को पीटने के बाद शांतिभंग में किया चालान, हंगामें के बाद सीओ ने लिया एक्शन

बरेली में ट्रैक्टर ले जा रहे किसान को वर्दी पहने दो लोगों ने बुरी तरह पीट दिया। जिससे वह घायल ही गया उसके बाद पुलिस उसे थाने ले आई और उसका शांति भंग में चालान कर दिया।

वर्दीधारियों ने किसान को पीटने के बाद शांतिभंग में किया चालान, हंगामें के बाद सीओ ने लिया एक्शन
up police si asi clerical recruitment 2021
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,बरेलीSat, 15 Jun 2024 05:14 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के बरेली से वर्दीधारियों की दबंगई सामने सामने आई है। जहां ट्रैक्टर ले जा रहे किसान को वर्दी पहने दो लोगों ने बुरी तरह पीट दिया। जिससे वह घायल ही गया उसके बाद पुलिस उसे थाने ले आई और उसका शांति भंग में चालान कर दिया। घटना के बाद पीड़ित पक्ष के लोगों में रोष फैल गया। उन्होंने भाजपा जिलाध्यक्ष पवन शर्मा और बरेली सांसद छत्रपाल ने शिकायत की। जिसके बाद घटना की जांच सीओ ने शुरू कर दी है।

ये घटना गुरुवार की बताई जाती है। नज़रगंज गांव के रहने वाले महेंद्र पाल सितारगंज नेशनल हाइवे से ट्रैक्टर लेकर गुजर रहा था। उत्तमनगर गुरुद्वारे पर सिरसा चौकी पुलिस चैकिंग कर रही थी। महेंद्र ट्रैक्टर लेकर यह सोचकर किनारे से निकल गया कि पुलिस तो दो पहिया वाहनों की चेकिंग कर रही है। पुलिस ने यह समझा कि वह जानबूझकर बचकर निकला है। इसके बाद जब किसान हथमना पहुंचा तो एक ग्रामीन ने महेंद्र का ट्रैक्टर रोकने ने लिए रास्ते मे ट्रैक्टर लगा दिया। लेकिन वह ग्रामीण महेंद्र को जानता था तो उसने ट्रैक्टर हटाकर रास्ता खोल दिया इतने में ही बाइक से दो वर्दी पहने लोग वहां पहुंच गए। पीड़ित का कहना है वर्दी पहने दोनों लोगों ने उसको जमकर मारा जिससे वह घायल हो गया। 

पुलिस किसान महेन्द्र को थाने उठा लाई और उसे शांति भंग करने के आरोप में थाने में बिठा लिया। अगले दिन पुलिस ने उसका चालान कर दिया। घटना के बाद महेंद्र के परिजनों ने इसकी शिकायत भाजपा जिलाध्यक्ष पवन शर्मा और बरेली सांसद छत्रपाल सिंह से कर दी। सांसद छत्रपाल सिंह ने पुलिस अधिकारियों को फोन कर पीड़ित को न्याय दिलाने को कहा। वहीं जिलाध्यक्ष पवन शर्मा ने सीओ को फोन करके जांच करने का अनुरोध किया, जिसके बाद सीओ अरुण कुमार ने जांच शुरू कर दी है।