ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशशिक्षा विभाग के क्‍लर्क को 55 लाख दिलाने का झांसा दे बिकवा दिया घर, 15 लाख हड़पे, जानें पूरा मामला

शिक्षा विभाग के क्‍लर्क को 55 लाख दिलाने का झांसा दे बिकवा दिया घर, 15 लाख हड़पे, जानें पूरा मामला

यूपी के बरेली में शिक्षा विभाग में तैनात एक कार्यालय सहायक को 55 लाख रुपए दिलाने का वादा कर 15 लाख रुपए हड़प लिए जाने का मामला सामने आया है। कर्मचारी ने तीन लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया है।

शिक्षा विभाग के क्‍लर्क को 55 लाख दिलाने का झांसा दे बिकवा दिया घर, 15 लाख हड़पे, जानें पूरा मामला
Ajay Singhवरिष्‍ठ संवाददाता,बरेलीTue, 27 Sep 2022 12:57 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

बरेली में शिक्षा विभाग में तैनात एक क्‍लर्क को 55 लाख दिलाने का झांसा देकर 15 लाख रुपए हड़प लिए जाने का मामला सामने आया है। क्‍लर्क ने तीन लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी और रुपए हड़पने का मुकदमा दर्ज कराया है।

बरेली के जोगीनवादा में रहने वाले वीरपाल ने नवीन अग्रवाल, अनिल कुमार गुप्ता और राजकुमार विमल पल्ली के खिलाफ थाना बारादरी में केस किया है। आरोप है कि इन तीनों ने उन्हें 55 लाख दिलाने का झांसा देकर मकान बिकवाकर 15 लाख रुपये हड़प लिए। वीरपाल ने बताया कि वह शिक्षा विभाग में कार्यालय सहायक हैं और भदपुरा ब्लॉक में तैनात हैं। उन्होंने श्रीराम लाइफ इंश्योरेंस कंपनी से लगभग 50-50 हजार किश्त के दो बीमा कराए थे। दो किश्तें ही जा पाई थीं और वह बीमा चलाने के इच्छुक नहीं थे। पिछले साल जुलाई में नवीन अग्रवाल ने उन्हें फोन किया और कहा कि वह हैदराबाद आईजीएमएस से बोल रहा है।

कुछ नेता घर पर जेल से मंगाकर खा रहे रोटी, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

झांसा दिया कि श्रीराम लाइफ इंश्योरेंस कंपनी में उनका जो बीमा चल रहा है, वह उसके 1.47 लाख रुपये बीमा के और 55 लाख रुपये एनआई फंड के दिला देगा। फिर उसने अपने साथी अनिल कुमार गुप्ता और राजकुमार विमल पल्ली से बात कराई। रुपये दिलाने के एवज में 15 लाख का खर्च बताया। वह आरोपियों की बातों में आ गए और अपना मकान बेचकर और उधार लेकर 15 लाख रुपये उनके बताए खाते में डाल दिए।

अखिलेश यादव बीजेपी से लड़ने को बनाएंगे नई और मजबूत टीम, लखनऊ में दो दिन होगी व्‍यूह रचना

रकम भेजने का दबाव बना रहे आरोपी 15 लाख रुपये भेजने के बाद आरोपियों ने पैन कार्ड होल्ड होने की बात कहकर आरोपियों ने 2.80 लाख रुपये फिर मांगने शुरू कर दिए। कहा कि जब तक होल्ड नहीं हटेगा, 55 लाख रुपये नहीं भेजे जा सकेंगे। उन्होंने जांच कराई तो पैन कार्ड पर होल्ड न होने की बात सामने आई, जिसके बाद उन्हें ठगी का अहसास हुआ।

वीरपाल का आरोप है कि अब वे लोग उन्हें बार-बार फोन करके 2.80 लाख रुपये खाते में डालने का दबाव बना रहे हैं। इस मामले में उन्होंने आईजी कार्यालय में शिकायत की तो मामले की जांच और कार्रवाई के आदेश दिए गए। इसके बाद थाना बारादरी में रिपोर्ट दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

epaper