ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशबरेली: नाबालिग रेप पीड़िता की जिला अस्पताल में मौत, सात माह की गर्भवती थी किशोरी

बरेली: नाबालिग रेप पीड़िता की जिला अस्पताल में मौत, सात माह की गर्भवती थी किशोरी

बरेली में सात माह की गर्भवती दुष्कर्म पीड़ित किशोरी की गुरुवार रात को जिला अस्पताल में मौत हो गई। किशोरी काफी दिनों से बीमार थी। उसके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। इसके अलावा उसे सैप्टीसीमिया...

बरेली: नाबालिग रेप पीड़िता की जिला अस्पताल में मौत, सात माह की गर्भवती थी किशोरी
Yogesh Yadavबरेली वरिष्ठ संवाददाताFri, 08 Jan 2021 10:17 PM
ऐप पर पढ़ें

बरेली में सात माह की गर्भवती दुष्कर्म पीड़ित किशोरी की गुरुवार रात को जिला अस्पताल में मौत हो गई। किशोरी काफी दिनों से बीमार थी। उसके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। इसके अलावा उसे सैप्टीसीमिया भी हो गया था। किशोरी से दुष्कर्म और पाक्सो एक्ट का आरोपी एक माह से जेल में बंद है। 

फतेहगंज पश्चिमी की रहने वाली 17 वर्षीय नाबालिग के साथ पड़ोस के ही बनवारी ने दुष्कर्म किया था। जानकारी होने पर पीड़िता के परिजनों ने आरोपी बनवारी के खिलाफ चार दिसंबर 2020 को फतेहगंज पश्चिमी थाने में रेप और पॉक्सो एक्ट का मुकदमा दर्ज कराया था। कुछ दिनों बाद नाबालिग का पेट बाहर आने पर और घर में उल्टी होने पर उन्हें शक हुआ। उन्होंने किशोरी का अल्ट्रासाउंड कराया। जांच में वह छह माह की गर्भवती निकली।

पूछताछ में किशोरी ने बताया कि आरोपी बनवारी डरा धमकाकर कई माह से उसके साथ रेप कर रहा था। उसने उसे किसी से भी शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी दी थी। बुधवार को नाबालिग के माता पिता ने दूध में रोटी खिलाई थी। इसके बाद से उसकी हालत बिगड़ गई। इसके बाद उसे महिला अस्पताल में भर्ती करा दिया गया। जहां पर गुरुवार को उसकी हालत बिगड़ने पर जिला अस्पताल रेफर कर दिया। गुरुवार रात करीब 9:30 बजे किशोरी की इलाज के दौरान मौत हो गई। इस मामले की सूचना डाक्टरों ने पुलिस को देते हुये शव को सुरक्षित रख लिया। पुलिस ने शव को कब्जे में कर शुक्रवार को उसका पोस्टमार्टम कराया है।

मानसिक रूप से थी कमजोर
नाबालिग के परिवार वालों के अनुसार उनकी बेटी मानसिक रूप से कमजोर थी और इसी बात का फायदा उठाकर आरोपी बनवारी ने उसके साथ घिनौना काम किया था। आरोपी बनवारी के खिलाफ चार दिसंबर को रेप व पाक्सो अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कराया गया था। जिसके बाद से ही आरोपी बनवारी जेल की सलाखों के पीछे है।

epaper