ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशबांके बिहारी मंदिर में दर्शन की व्यवस्था बदलेगी, आने से पहले यह करना जरूरी, प्रशासन के प्लान से गोस्वामी भी सहमत

बांके बिहारी मंदिर में दर्शन की व्यवस्था बदलेगी, आने से पहले यह करना जरूरी, प्रशासन के प्लान से गोस्वामी भी सहमत

वृंदावन के बांके बिहारी मंदिर में दर्शन की व्यवस्था बदलने वाली है। गुरुवार को पुलिस प्रशासन के साथ मंदिर प्रबंधन करने वाले गोस्वामी की बैठक हुई। प्रशासन के प्लान पर सहमति जताई गई है।

बांके बिहारी मंदिर में दर्शन की व्यवस्था बदलेगी, आने से पहले यह करना जरूरी, प्रशासन के प्लान से गोस्वामी भी सहमत
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,वृंदावनThu, 25 Jan 2024 11:54 PM
ऐप पर पढ़ें

वृंदावन के ठाकुर बांके बिहारी महाराज मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं को सुलभ दर्शन कराने के लिये प्रशासनिक अफसरों की गोस्वामियों के साथ बैठक हुई। इसमें ऑनलाइन पंजीकरण से दर्शन कराने पर सहमति बनी। आने वाले समय में पंजीयन द्वारा ही श्रद्धालुओं को दर्शन कराने को लेकर तैयारी की जा रही है। यानी मंदिर में दर्शन के लिए आने से पहले सभी को आनलाइन पंजीकरण कराना होगा। इसके अलावा मंदिर के अंदर व्यवस्थाओं को लेकर मुंसिफ कोर्ट या उच्च न्यायालय से अनुमति लिये जाने पर भी चर्चा हुई। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर हुई दुर्घटना के बाद मंदिर के अंदर सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पीआईएल लंबित है, जिस पर 31 जनवरी को सुनवाई होनी है। 

पर्यटक सुविधा केन्द्र पर गुरुवार को जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेष कुमार पांडेय ने गोस्वामियों के साथ बैठक में प्रशासन द्वारा ऑनलाइन पंजीकरण के लिये बनाई जा रही व्यवस्था के बारे में बताया। इस पर लगभग सभी गोस्वामियों ने सहमति जताई। मथुरा, छटीकरा और यमुना एक्सप्रेस-वे से वृंदावन आने वाले तीनों मार्गों पर यातायात प्रबंधन के साथ पार्किंग स्थलों के बढ़ाये जाने को लेकर जानकारी दी गई।

पार्किंग स्थलों से श्रद्धालुओं को सहूलियत के साथ मंदिर तक लाने और दर्शन कराने के बाद बाजारों में खरीददारी कराते हुए पार्किंग स्थलों तक वापस लाने के रूटों और उसकी रुकावटों को लेकर चर्चा हुई। बैठक में प्रजेंटेशन के माध्यम से पुलिस और प्रशासन के सामने यातायात और भीड़ नियंत्रण को लेकर आने वाली चुनौतियों को लेकर बताया गया। 

इसके साथ ही प्रजेंटेशन के जरिये वृंदावन आने वाले श्रद्धालुओं की रिपोर्ट प्रस्तुत की गई जिसमें बताया गया कि सामान्य दिनों में व्यक्तिगत वाहनों से 20 से 25 हजार श्रद्धालु आते हैं, जबकि सार्वजनिक परिवहन से 10 से 20 हजार, साप्ताहांत में निजी वाहनों से 50 हजार से एक लाख तथा सार्वजनिक परिवहन से 50 हजार से एक लाख तथा नववर्ष, रंगभरनी एकादशी, अक्षय तृतीय, गुरुपूर्णिमा, हरियाली तीज, जन्माष्टमी, राधाष्टमी, शरद पूर्णिमा, बिहार पंचमी जैसे विशेष पर्वों पर स्वयं के वाहनों से एक से ढाई लाख तथा सार्वजनिक परिवहन से डेढ़ से ढाई लाख श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं।

डीएम ने बताया कि मंदिर के अंदर की व्यवस्था तत्काल की जा सकती है, लेकिन कोर्ट में मामला विचाराधीन होने के चलते देरी हो रही है। प्रशासन व्यवस्थाओं को बनाने के लिये कोर्ट में अपनी बात रखेगा। बैठक में विकास प्राधिकरण के सचिव राजेश कुमार, बालकिशन गोस्वामी, गोपी गोस्वामी, रजत गोस्वामी, प्रहलाद गोस्वामी आदि शामिल थे। 

जिलाधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह के अनुसार बिहारी जी मंदिर की व्यवस्था को लेकर गोस्वामियों के साथ बैठक हुई। जिसमें जगमोहन में ठाकुर जी के दर्शन कराने, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने और श्रद्धालुओं की सुविधार्थ कदम उठाने पर चर्चा हुई। बैठक सकारात्मक हुई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें