ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी विधानमंडल सत्र में अयोध्या राममंदिर की होगी गूंज, सर्वदलीय बैठक कल

यूपी विधानमंडल सत्र में अयोध्या राममंदिर की होगी गूंज, सर्वदलीय बैठक कल

यूपी विधानमंडल सत्र में इस बार अयोध्या में बने राममंदिर की भी गूंज रहेगी। हालांकि सीएम योगी कैबिनेट अभी मंदिर दर्शन को नहीं जाएगी। वहीं विधानसभा सत्र में हंगामे के आसार है। सर्वदलीय बैठक कल होगी।

यूपी विधानमंडल सत्र में अयोध्या राममंदिर की होगी गूंज, सर्वदलीय बैठक कल
Srishti Kunjहिन्दुस्तान टीम,लखनऊWed, 31 Jan 2024 06:45 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश विधान मंडल सत्र में इस बार अयोध्या में बने राममंदिर की भी गूंज सुनाई देगी। इसकी चर्चा राज्यपाल के अभिभाषण में हो सकती है, साथ ही अयोध्या में राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद संबंधी प्रस्ताव भी आ सकता है। सदन में भाजपा व सपा के बीच तकरार होने के आसार हैं। खास तौर पर सपा कई मुद्दों पर आक्रामक तेवर दिखाने की तैयारी में है।

दो फरवरी से शुरू हो रहे इस बजट सत्र का आगाज राज्यपाल के अभिभाषण से होगा। आगे के कार्यक्रम तय करने के लिए एक फरवरी को कार्यमंत्रणा समिति की बैठक होगी। साथ ही सर्वदलीय बैठक भी होगी। पहले एक फरवरी को मुख्यमंत्री को कैबिनेट के साथ अयोध्या जाना था लेकिन यह कार्यक्रम स्थगित हो गया। राज्यपाल के अभिभाषण के बाद अगली बैठक में दो विधायकों के निधन पर समूचा सदन श्रद्धांजलि देगा। इसके अगले दिन वित्तीय वर्ष 2024-25 के लिए योगी सरकार बजट पेश करेगी। 

सूत्रों के मुताबिक सत्र को 12 फरवरी तक चलाए जाने की तैयारी है। बजट पांच फरवरी को पेश हो सकता है। उधर विपक्ष भी सरकार की विभिन्न मुद्दों पर घेराबंदी की तैयारी में है। अखिलेश यादव ने दो तारीख को सुबह विधानमंडल दल कार्यालय में विधायकों की बैठक बुलाई है।

23 किलो सोने से मेरा कोई लेना-देना नहीं, मुझे नहीं चाहिए, कहकर पीयूष जैन ने जमा किया ये पत्र

अयोध्या में बाइक टैक्सी भी दिलाएगी रोजगार
ई रिक्शा और आटो के साथ अयोध्या में युवाओं के लिए बाइक टैक्सी भी रोजगार का जरिया बनेगा। लेकिन जो युवक ई रिक्शा और आटो चलाना अपनी शान के अनुरूप नहीं समझते, अब उन्हें एक निजी कम्पनी की ओर से अयोध्या शहर में शुरू की गयी बाइक टैक्सी परिवार चलाने के लिए आमदनी का एक सम्मानजनक मार्ग भी प्रशस्त कर रही है। बाइक टैक्सी का शुभारंभ महापौर गिरीश पति त्रिपाठी ने सिविल लाइंस क्षेत्र से किया। अभी यह सेवा राजधानी लखनऊ सहित अन्य महानगरों में भी उपलब्ध थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें