ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशRam Mandir: राम आ गए देखो अवधनगरी...अयोध्‍या में राममंदिर प्राण प्रतिष्‍ठा की धूम, संस्‍कृतियों का संगम 

Ram Mandir: राम आ गए देखो अवधनगरी...अयोध्‍या में राममंदिर प्राण प्रतिष्‍ठा की धूम, संस्‍कृतियों का संगम 

अयोध्‍या में राममंदिर प्राण प्रतिष्‍ठा के लिए देश के कोने-कोने से लोग जुटे हैं। देश की विभिन्न संस्कृतियों के दर्शन हो रहे। रामजन्म भूमि पथ के पास राम आई गए देखो अवधनगरी... गीत ने सबका ध्यान खींचा।

Ram Mandir: राम आ गए देखो अवधनगरी...अयोध्‍या में राममंदिर प्राण प्रतिष्‍ठा की धूम, संस्‍कृतियों का संगम 
Ajay Singhविजय शंकर शुक्ल,अयोध्याMon, 22 Jan 2024 05:21 AM
ऐप पर पढ़ें

Ram Lala Pran Pratistha: राम की नगरी में राममंदिर प्राण प्रतिष्‍ठा के लिए देश के कोने-कोने से लोग जुटे हैं। विभिन्न संस्कृतियों के दर्शन हो रहे हैं। रामजन्म भूमि पथ के पास राम आई गए देखो अवधनगरी... गीत ने सबका ध्यान खींचा। दरअसल, संस्कृति विभाग ने थोड़ी-थोड़ी दूरी पर स्टेज बनवाए हैं। इन पर देश के विभिन्न हिस्सों से आए कलाकार अपनी प्रस्तुतियां दे रहे हैं।

लता मंगेशकर चौक के पास खजान सिंह लीडर नगाड़ा पार्टी, शृंगार हाट के पास मथुरा से आए कलाकारों का मयूर नृत्य, इससे थोड़ी दूरी पर काशी के कलाकार सामूहिक रूप से डमरू वादन से आए हुए श्रद्धालुओं का मन मोह रहे हैं। हनुमानगढ़ी के गेट पर श्रद्धालु रामभक्ति में मगन होकर नृत्य करते दिखे। थोड़ा आगे ओडिशा, तमिलनाडु, महाराष्ट्र और राजस्थान समेत कई सूबों के कलाकर अपनी विधाएं परोसते नजर आए। अयोध्या के कलाकार लाठी पर चढ़कर नृत्य व सोनभद्र से आए आदिवासी समुदाय के लोगों ने करमा नृत्य की बेहद सुंदर प्रस्तुति दी।

भगवान शिव के आराध्य राम की नगरी में डमरू के नाद से उनकी अर्चना की गई। वाराणसी से आए श्री काशी विश्वनाथ डमरू दल के सदस्यों ने समां बांध दिया। राजस्थान, छत्तीसगढ़, असम, नेपाल, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, बिहार, दिल्ली समेत यूपी के विभिन्न जिलों से आए श्रद्धालुओं ने डमरू दल के साथ सेल्फी ली और हर हर महादेव का उद्घोष किया।

मोदी-योगी की पूजा कर रहे 
दिल्ली के रतन दिल्ली के रहने वाले रतन रंजन मोदी योगी तस्वीर लिए साइकिल से अयोध्या पहुंचे हैं। वह जगह-जगह पर इन दोनों की पूजा और आरती करते हैं।

कागज से बनाया हनुमान सीने में सीताराम 
बस्ती के रंजन ने राम की पैड़ी पर एक अनोखा चित्र तैयार किया है। 651 सेंटीमीटर लंबे और 441 सेंटीमीटर चौड़े क्षेत्रफल में बने इस चित्र में 630 पन्ने अलग-अलग लगाए गए हैं। इन्हें मिलाने पर हनुमान जी और उनके सीने में राम-सीता का चित्र बन जाता है।

देश भर के मंदिरों से गवाह बनने की अपील

देशभर के पौराणिक महत्व वाले मंदिरों में भी उत्सव मनाने की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। सोमवार को राम का गुणगान करते हुए दीपोत्सव, की अपील की गई है। सालासर बालाजी धाम मंदिर के एक्स हैंडल से की गई पोस्ट में कहा गया है कि 500 वर्षों से जिस घड़ी का हम सबको इंतजार था, वो आ गई है। काशी विश्वनाथ मंदिर के आधिकारिक हैंडल से सभी रामभक्तों को ऐतिहासिक अवसर पर बधाई दी गई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें