ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशAyodhya Ram mandir: राममंदिर के गर्भगृह पहुंचे रामलला विराजमान, चल रहा अनुष्‍ठान

Ayodhya Ram mandir: राममंदिर के गर्भगृह पहुंचे रामलला विराजमान, चल रहा अनुष्‍ठान

Ram mandir: श्रीरामजन्म भूमि में रामलला के नूतन विग्रह के प्राण प्रतिष्ठा में कुछ घंटे शेष हैं। इस बीच अस्थाई मंदिर में विराजमान रामलला को भी शयन आरती के बाद रात 8:30 बजे गर्भगृह में पहुंचा दिया गया।

Ayodhya Ram mandir: राममंदिर के गर्भगृह पहुंचे रामलला विराजमान, चल रहा अनुष्‍ठान
Ajay Singhहिन्दुस्तान टीम,अयोध्याMon, 22 Jan 2024 05:03 AM
ऐप पर पढ़ें

Ayodhya Ram mandir pran pratishtha: श्रीरामजन्म भूमि में रामलला के नूतन विग्रह के प्राण प्रतिष्ठा में कुछ घंटे शेष हैं। इस बीच अस्थाई मंदिर में विराजमान रामलला को भी शयन आरती के बाद रात 8:30 बजे गर्भगृह में पहुंचा दिया गया है। विराजमान रामलला गर्भगृह में पूर्व प्रतिष्ठित अचल विग्रह के साथ रात्रि में शैय्याधिवास में रहेंगे जबकि रामलला के रजत विग्रह का शैय्याधिवास यज्ञ मंडप में ही चल रहा है। बताया गया कि प्रात उत्थापन के बाद महापूजा से पहले उन्हें पहुंचाया जाएगा।

श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र के न्यासी और पेजावर मठ पीठाधीश्वर जगद्गुरु माधवाचार्य स्वामी विश्व प्रसन्न तीर्थ के निर्देशन में रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द्र दास व चारों पुजारियों ने उन्हें गोद में लेकर गर्भगृह में पहुंचाया और उनके विश्राम की सम्पूर्ण व्यवस्था की। इसके पहले 25 मार्च 2020 को मंदिर निर्माण के लिए भूमि समतलीकरण को लेकर विराजमान रामलला को टेंट से अस्थाई मंदिर तक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोद में उठाकर पहुंचाया था।

देश भर की पवित्र नदियों के जल व औषधियुक्त 114 कलशों से अभिषेक और रविवार सायंकाल संध्या आरती के बाद भगवान राम का शैय्याधिवास शुरू हो गया। पहले सायं आरती के बाद विराजमान रामलला को गर्भगृह में ले जाने का निश्चय किया गया था। रात्रि साढ़े आठ बजे हुई शयन आरती के बाद उन्हें पहुंचाने की व्यवस्था की गयी। इस मौके पर पुजारी अशोक उपाध्याय, प्रदीप दास, संतोष तिवारी व प्रेम तिवारी के अलावा मंदिर निर्माण प्रभारी गोपाल राव, तीर्थ क्षेत्र महासचिव चंपतराय व अन्य मौजूद रहे। रामलला को नूतन मंदिर के गर्भगृह में प्रतिष्ठित करने के लिए ही बीते दो दिनों से आम श्रद्धालुओं का दर्शन निषिद्ध कर दिया गया था लेकिन उनकी दैनिक पूजा अर्चना का क्रम अस्थाई मंदिर में ही चल रहा था। इस बीच अस्थाई मंदिर के चारों ओर लगी बैरीकेड हटाकर रास्ते को साफ सुथरा किया गया।

श्रीरामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र कार्यालय प्रभारी प्रकाश कुमार गुप्ता ने बताया कि शयन आरती के बाद रामलला को अस्थाई मंदिर से निकाल कर नूतन मंदिर के गर्भगृह में पहुंचा दिया गया। रामलला के प्राण प्रतिष्ठा के अनुष्ठान के अंतिम चरण में दो अधिवास शेष थे। जिसमें भगवान का उत्थापन के बाद नैमित्तिक क्रिया पूर्ण कर अनुष्ठान का क्रम शुरू हुआ।

पुत्रदा एकादशी के पर्व पर पुन भगवान का सूखे मेवे व शहद (मधु) में अधिवास कराया गया। इस अधिवास के बाद पवित्र नदियों के जल से पुन अभिषेक कर उनकी शोभायात्रा निकाली गई।

कल से आप मंदिर में श्रीराम के दर्शन कर पाएंगे

श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए सुबह सात बजे से दोपहर साढ़े 11 बजे तक राम मंदिर खुला रहेगा। इसके बाद श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए दोपहर दो बजे से शाम सात तक मंदिर खुला रहेगा। दोपहर में ढाई घंटे मंदिर के कपाट बंद रहेंगे।

पूर्वी दिशा से प्रवेश

मंदिर में पूर्वी दिशा से प्रवेश और दक्षिण दिशा से निकासी होगी। मुख्य मंदिर के लिए 32 सीढ़ियां चढ़नी होंगी।

आरती का समय

शृंगार आरती- सुबह 6:30 बजे

भोग आरती- दोपहर 12:00 बजे

संध्या आरती- शाम 7:30 बजे
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें