Friday, January 28, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशअयोध्या : राम जन्मभूमि परिसर में अब नहीं रहेगा पीएसी का बैरक

अयोध्या : राम जन्मभूमि परिसर में अब नहीं रहेगा पीएसी का बैरक

हिन्दुस्तान टीम, अयोध्याShivendra Singh
Wed, 01 Dec 2021 09:16 PM
अयोध्या : राम जन्मभूमि परिसर में अब नहीं रहेगा पीएसी का बैरक

इस खबर को सुनें

रामजन्मभूमि परिसर में अब पीएसी का बैरक नहीं रहेगा। भविष्य की योजनाओं को मूर्त रूप देने व मटेरियल का गोदाम बनाने के लिए स्थानाभाव हो गया है। जिला प्रशासन की ओर से भूमि तलाशी जा रही है। रामजन्मभूमि ट्रस्ट बैरक का निर्माण  कराएगा। उधर, रामजन्मभूमि की मंदिर निर्माण समिति की हुई दो दिवसीय बैठक में पश्चिम दिशा में निर्माणाधीन रिटेनिंग वॉल का निर्माण बरसात से पहले पूरा करने के लिए समयसीमा निर्धारित कर दी गई है। 

रामजन्मभूमि ट्रस्ट के न्यासी डॉ. अनिल मिश्र ने हिन्दुस्तान को बताया कि यह निर्माण अभी उत्तर-पश्चिम व दक्षिण-पश्चिम दिशा में शुरू हुआ है। जैसे-जैसे काम आगे बढ़ेगा पश्चिम दिशा में रिटेनिंग वॉल पूरी हो जाएगी। उन्होंने बताया कि इस कार्य को बरसात से पहले हर हाल में पूरा किया जाना है। यह रिटेनिंग वॉल उत्तर व दक्षिण में भी बनाई जाएगी। इसके ऊपर परकोटे का निर्माण होना है। डा. मिश्र ने बताया कि इसकी डिजाइन स्वीकृत हो गई है। दक्षिणात्य शैली में बनने वाले इस परकोटे के चारों कोने मंदिर की आकृति में होंगे। उन्होंने बताया कि परकोटे के निर्माण के  बाद ट्रस्ट की बैठक में तय होगा कि इनमें मूर्तियां रहेंगी अथवा नहीं। फिलहाल परकोटे के निर्माण को रोक दिया गया है। परकोटे का निर्माण हो जाने पर सुपर स्ट्रक्चर के निर्माण के दौरान पत्थरों की ढुलाई में बाधा आएगी। इस बीच रामजन्मभूमि ट्रस्ट महासचिव चंपत राय ने स्पष्ट किया कि आमतौर पर किसी भवन की चाहरदीवारी को मंदिर निर्माण की भाषा में परकोटा कहा जाता है।

जिला प्रशासन जमीन दे तो बैरक का निर्माण कराया जाएगा
रामजन्मभूमि परिसर में अब पीएससी जवानों की आवासीय व्यवस्था नहीं रहेगी। धीरे-धीरे राम मंदिर निर्माण गति पकड़ने लगा है। इस गति को बरकरार रखने के लिए परिसर में पर्याप्त मटेरियल के लिए स्टोरेज की जरूरत है लेकिन परिसर के लैंडस्केप को देखते हुए स्थानाभाव हो गया है। यही कारण है कि वहां से ट्रस्ट कार्यालय, पुलिस कंट्रोल रूम व रामजन्मभूमि पुलिस चौकी को भी शिफ्ट करने की योजना बन गयी है। रामजन्मभूमि ट्रस्ट ने जिला प्रशासन से अपेक्षा की है कि वह पीएसी के आवास के लिए जमीन की व्यवस्था करा दे तो बैरक का निर्माण ट्रस्ट की ओर से करा दिया जाएगा।

आवागमन की असुविधा के कारण अभी अंतिम रूप नहीं दिया जा सका
दरअसल ट्रस्ट का यह विचार है कि राज्य सरकार का कामकाज अपने ढर्रे पर चलता है जिसमें पर्याप्त समय लगेगा जिससे  असुविधा खड़ी हो जाएगी। वैसे भी विधानसभा चुनाव की रणभेरी बज गई है। कब आचार संहिता लागू हो जाएगी और फिर मामला लटका रहेगा। ऐसी स्थिति में जमीन उपलब्ध होने पर ट्रस्ट अपनी ओर से यह कार्य पूर्ण करा देगा। उधर जिला प्रशासन ने बेगमपुरा मोहल्ले में 45 हजार वर्गफुट नजूल भूमि चिह्नित की है लेकिन इस साइट पर बड़े वाहनों के आवागमन की असुविधा के कारण अभी अंतिम रूप नहीं दिया जा सका है।

epaper

संबंधित खबरें