DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अयोध्या: धन्नीपुर में मस्जिद की जमीन पर किया गया ध्वजारोहण
उत्तर प्रदेश

अयोध्या: धन्नीपुर में मस्जिद की जमीन पर किया गया ध्वजारोहण

हिन्दुस्तान टीम,अयोध्याPublished By: Deep Pandey
Tue, 26 Jan 2021 11:52 AM
अयोध्या: धन्नीपुर में मस्जिद की जमीन पर किया गया ध्वजारोहण

अयोध्या जनपद मुख्यालय से करीब बीस किलोमीटर दूर रौनाही थाने के पीछे स्थित पांच एकड़ जमीन में बनने वाली धन्नीपुर मस्जिद के निर्माण की कवायद 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के दिन शुरू कर दी गई है। यहां सुन्नी वक्फ बोर्ड के ट्रस्टियों द्वारा मंगलवार को सुबह ध्वजारोहण व पौधरोपण किया गया है।

मंगलवार को सुबह गणतंत्र दिवस के दिन धन्नीपुर गांव में प्रस्तावित मस्जिद के भूमि पर सुन्नी वक्फ बोर्ड के सदस्यों ने पहुंच कर ध्वजारोहण किया।  इस दौरान ट्रस्ट के आधा दर्जन सदस्यों की मौजूदगी रही। जबकि पहले से नियत कार्यक्रम के अनुसार ट्रस्ट के अध्यक्ष जफर फारूकी ने सबसे पहले ध्वजारोहण किया। इसके बाद ट्रस्टियों ने स्थानीय लोंगो के मौजूदगी में राष्ट्रगान किया। ततपश्चात फल और छायादार वृक्षों का रोपण किया गया।

कार्यक्रम में सुन्नी वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष जफर फारुकी,उपाध्यक्ष अदनान फारुख शाह, ट्रस्ट के महासचिव व प्रवक्ता अतहर हुसैन, ट्रस्टी मो. राशिद, इमरान अहमद,डा. शेख सैय्यद जमन सहित आधा दर्जन ट्रस्टियों के अलावा टीले वाली मस्जिद लखनऊ के इमाम मौलाना वासिफ, नदवे मौलाना मौलाना उवैदुल रहमान, ट्रस्टी सीएफओ इकराम उल्ला, मीडिया प्रभारी डा. सैफ़ुद्दीन की भी सहभागिता बनी थी। जबकि वक्फ बोर्ड के नौ ट्रस्टियों में तीन ट्रस्टी कार्यक्रम में नही पहुंच पाए।

बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद गांव धन्नीपुर में पांच एकड़ जमीन मस्जिद निर्माण के लिए प्रदेश सरकार द्वारा सुन्नी वक्फ बोर्ड को दी गई है। यहां मस्जिद के साथ दो शैय्या का एक बड़ा हॉस्पिटल, कम्युनिटी किचन व इंडो इस्लामिक रिसर्च सेंटर की स्थापना की जाएगी।

ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन ने 'हिन्दुस्तान' को  बताया की देश के इतिहास में सबसे बड़ी गणतंत्र दिवस की 26 जनवरी तारीख है। इस दिन देश को संविधान दिया गया था।उन्होंने बताया कि यहां अवध क्षेत्र में साझी विरासत रही है। अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ  साझी विरासत के सृजन के लिए हिंदू- मुस्लिम सहित सभी समुदाय के लोगों ने देश को आजादी दिलाने में योगदान दिया है। अवध की साझी विरासत को सृजित रखने के लिए यहां मस्जिद के साथ इंडो इस्लामिक रिसर्च सेंटर की स्थापना की जाएगी।

 उन्होंने बताया कि यहां पर मस्जिद के साथ हॉस्पिटल निर्माण भी करवाया जाएगा। साथ ही कम्युनिटी किचन बनाया जाएगा। जिसमें प्रतिदिन एक समय पर एक हजार लोगों को नियमित  पौष्टिक भोजन कराने की व्यवस्था की जाएगी। जबकि मीडिया प्रभारी डा. सैफुद्दीन ने बताया कि यहां झंडारोहण के साथ वृक्षारोपण किया गया है जो एकता में अनेकता का प्रतीक है। 26 जनवरी के दिन आयोजित कार्यक्रम से अवध क्षेत्र में गंगा -जमुनी तहजीब स्थापित करने की कवायद की गई है। इस अवसर पर स्थानीय लोंगो में  ग्राम प्रधान मेराज खान, सोहराब खान,ठेकेदार कल्लू खान, लाल मोहम्मद,पूर्व प्रधान रौनाही खुर्शीद खान,हाजी  इम्तियाज़ खान, बबलू खान,नफीस खान,अतीक खान सहित सैकड़ों की संख्या में स्थानीय लोगों की मौजूदगी बनी रही।
,,

 

संबंधित खबरें