ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशPDA के जवाब में PDM, BJP-INDIA से लड़ेंगे ओवैसी; पल्लवी संग गठबंधन

PDA के जवाब में PDM, BJP-INDIA से लड़ेंगे ओवैसी; पल्लवी संग गठबंधन

लोकसभा चुनाव को लेकर यूपी में AIMIM ने पल्लवी पटेल की पार्टी अपना दल (कमेरावादी), राष्ट्र उदय पार्टी और प्रगतिशील मानव समाज पार्टी के साथ मिलकर गठबधंन किया है। उन्होंने पीडीएम का नारा दिया है।

PDA के जवाब में PDM, BJP-INDIA से लड़ेंगे ओवैसी; पल्लवी संग गठबंधन
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,लखनऊSun, 31 Mar 2024 06:11 PM
ऐप पर पढ़ें

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियों ने कमर कस ली है। वहीं, यूपी में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम की एंट्री हो गई है। पल्‍लवी पटेल की पार्टी अपना दल (कमेरावादी), राष्ट्र उदय पार्टी और प्रगतिशील मानव समाज पार्टी के साथ मिलकर एआईएमआईएम ने गठबंधन कर लिया है। सभी मिलकर जल्‍द ही सीट बंटवारे का ऐलान कर सकते हैं। डॉ. पल्लवी पटेल की पहल पर साथ आए दलों ने भागीदारी के सवाल पर आगामी लोकसभा चुनाव मिलकर लड़ने का ऐलान करते हुए उत्तर प्रदेश में नया राजनीतिक विकल्प पेश किया। पल्लवी पटेल और ओवैसी की संयुक्त प्रेस वार्ता में एक नया नारा दिया गया है, पीडीएम यानी पिछड़ा दलित मुसलमान। 

लखनऊ के होटल क्लार्क में आयोजित संयुक्त पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए डॉ. पल्लवी पटेल ने कहा कि नए राजनीतिक परिस्थितियों में विभिन्न सामाजिक समूहों खासकर अन्य पिछड़ा वर्ग की अनेक जातियों, दलित एवं मुसलमान का दमन उत्पीड़न और अन्याय बढ़ा है। सरकार की कार्यशैली एवं मुख्य विपक्ष का इन सवालों पर पीछे हटना नए राजनीतिक विकल्प की मांग करता है। इसलिए हम पीडीएम के नारे के साथ पिछड़ा दलित मुसलमान के भागीदारी के सवाल पर दमन, उत्पीड़न एवं अन्याय के खिलाफ नए राजनीतिक विकल्प की ओर आगे बढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि 'पी.डी.एम.' यानी पिछड़ा दलित मुसलमान की राजनीतिक भागीदारी के साथ ही सामाजिक-आर्थिक न्याय हमारा मिशन है। इसलिए हम पूरी ईमानदारी से कार्यपालिका न्यायपालिका और व्यवस्थापिका में पीडीएम के वास्तविक अस्तित्व को स्थापित करने के लिए उत्तर प्रदेश की जनता की जन भावना के अनुरूप नया राजनीतिक विकल्प पेश कर रहे हैं। हमें आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की जनता वर्तमान पिछड़ा दलित एवं मुसलमान विरोधी सरकार को हटाने के लिए हमारे साथ आएगी।  चूंकि उत्तर प्रदेश में पिछड़ा दलित मुसलमान की वास्तविक लड़ाई ईमानदारी से हम लड़ रहे हैं। इसलिए "ए" के कंफ्यूजन को दूर करते हुए पीडीएम के नारे के साथ आगे बढ़ रहे हैं। 

पल्लवी पटेल ने आगे कहा, 'आज हमारे साथ एआइएमआइएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी साहब, अपना दल कमेरावादी की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती कृष्णा पटेल जी, राष्ट्रीय उदय पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बाबूराम पाल जी एवं प्रगतिशील मानव समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री प्रेमचंद बिंद जी साथ आ रहे हैं। आगे आने वाले दिनों में वास्तविक रूप से पीडीएम की लड़ाई लड़ रहे और भी दलों को जोड़कर निर्णायक लड़ाई की ओर आगे बढ़ा जाएगा। पीडीएम के बिना कोई सरकार नहीं बनेगी।'

राज्यसभा चुनाव के दौरान दिखी थी पल्लवी पटेल की नाराजगी 

राज्‍यसभा चुनाव के दौरान सपा उम्‍मीदवारों का ऐलान होते ही पल्‍लवी पटेल ने पीडीए पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए बगावत के सुर बुलंद किए थे। हालांकि बाद में उन्‍होंने सपा उम्‍मीदवार रामजी लाल सुमन के पक्ष में मतदान किया। लेकिन सपा के साथ उनका गठबंधन लोकसभा चुनाव के लिए टूट गया। उधर, अपना दल (कमेरावादी) ने यूपी की तीन सीटों पर अपने प्रत्याशियों का ऐलान भी कर दिया। पल्लवी पटेल के इस फैसले पर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा था कि उनकी इतनी सीटों की डिमांड पूरी नहीं कर सकते। सपा का अपना दल (कमेरावादी) के साथ गठबंधन नहीं है।    

यूपी की इन तीन सीटों पर है पल्लवी पटेल की पकड़

यूपी की तीन सीटें मिर्जापुर, कौशांबी और फूलपुर में पल्‍लवी पटेल की पार्टी की अच्‍छी पकड़ है। हालांकि पिछले लोकसभा चुनाव में ये तीनों सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी। वहीं सपा तीनों सीटों पर दूसरे स्‍थान पर रही। वहीं 2022 के यूपी विधान सभा चुनाव में अपना दल (कमेरावादी) ने चुनाव नहीं लड़ा था। हालांकि पल्‍लवी पटेल ने सपा के उम्‍मीदवार के तौर पर सिराथू सीट से चुनाव लड़कर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को 7 हजार से अधिक वोटों से हराया था।