ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशRLD के छिटकते ही कांग्रेस ने यूपी में बदल दिया समीकरण, सपा पर 20 सीटों को लेकर बढ़ाया दबाव

RLD के छिटकते ही कांग्रेस ने यूपी में बदल दिया समीकरण, सपा पर 20 सीटों को लेकर बढ़ाया दबाव

लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही यूपी में सीटों को लेकर समीकरण बनने शुरू हो गए हैं। लेकिन रालोद के ‘इंडिया’ गठबंधन से छिटकने के बाद यूपी में कांग्रेस और सपा के बीच सीटों के बंटवारे का समीकरण पूरी...

RLD के छिटकते ही कांग्रेस ने यूपी में बदल दिया समीकरण, सपा पर 20 सीटों को लेकर बढ़ाया दबाव
Dinesh Rathourप्रमुख,लखनऊSun, 11 Feb 2024 07:25 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही यूपी में सीटों को लेकर समीकरण बनने शुरू हो गए हैं। लेकिन रालोद के ‘इंडिया’ गठबंधन से छिटकने के बाद यूपी में कांग्रेस और सपा के बीच सीटों के बंटवारे का समीकरण पूरी तरह से बदल गया है। कांग्रेस ने अब ज्यादा सीटों के लिए दबाव बढ़ा दिया है। उसने अब कुछ ऐसी सीटें भी मांगी हैं, जहां से सपा अपने प्रत्याशी घोषित कर चुकी है। सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस यूपी की 80 लोकसभा सीटों में से कम से कम 20 सीटें चाहती है, जबकि सपा ने अभी तक उसके लिए केवल 11 सीटें छोड़ने का एलान किया है। दावा यह भी है कि कांग्रेस के एक महत्वपूर्ण पदाधिकारी की तरफ से सपा प्रमुख अखिलेश यादव के पास 20 लोकसभा सीटों के नाम भी भेज दिए गए हैं। इसे संशोधित सूची बताया जा रहा है, क्योंकि इसमें कांग्रेस ने कुछ नई लोकसभा सीटों के नाम जोड़ दिए हैं। पहले की परिस्थितियों में सपा अपने एक अन्य सहयोगी रालोद को सात सीटें देने को तैयार थी।

रालोद अब भाजपा की अगुवाई वाले गठबंधन ‘एनडीए’ जाने की अपनी मंशा का खुला इजहार कर चुकी है। ऐसे में अब पश्चिमी यूपी की सात सीटों पर भी कांग्रेस या सपा के प्रत्याशी ही मैदान में होंगे। सीटों के बंटवारे पर बातचीत के लिए दोनों दलों ने एक कमेटी बना रखी है। इस बीच 16 फरवरी को राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा यूपी पहुंचने वाली है। इस यात्रा के दौरान अमेठी या रायबरेली में होने वाली किसी एक सभा में सपा प्रमुख अखिलेश यादव के भी शामिल होने की संभावना है। यह एक तरह से गठबंधन का खुला ऐलान होगा। इस कारण इस सभा को दोनों दलों के शक्ति प्रदर्शन के तौर पर भी देखा जाएगा। माना जा रहा है कि राहुल की यात्रा के यूपी से बाहर निकल जाने के बाद सीटों के बंटवारे को अंतिम रूप दिया जाएगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें