ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशजेल में बंद सपा के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी की मुश्किलें बढ़ीं, भू माफिया घोषित

जेल में बंद सपा के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी की मुश्किलें बढ़ीं, भू माफिया घोषित

जेल में बंद सपा के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। जिला प्रशासन ने उन्हें भू माफिया घोषित करते हुए गिरोह का सरगना बताया है। भू माफिया गैंग में उनके तीन भाइयों का नाम शामिल...

जेल में बंद सपा के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी की मुश्किलें बढ़ीं, भू माफिया घोषित
हिन्दुस्तान टीम,बलरामपुरFri, 09 Oct 2020 03:14 PM
ऐप पर पढ़ें

जेल में बंद सपा के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। जिला प्रशासन ने उन्हें भू माफिया घोषित करते हुए गिरोह का सरगना बताया है। भू माफिया गैंग में उनके तीन भाइयों का नाम शामिल है। मामले की रिपोर्ट डीएम ने शासन को भेज दी है। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार उतरौला के पूर्व विधायक आरिफ अनवर हाशमी के विरुद्ध सितंबर माह वर्ष 2020 में सादुल्लाहनगर, रेहरा बाजार व उतरौला में सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा जमाने के चार मामले दर्ज किए गए हैं। फैजालुल्लाह, अनिल श्रीवास्तव आदि ने पूर्व विधायक के विरुद्ध कूटरचित दस्तावेज तैयार करवाने व मूल अभिलेख में हेरा-फेरी कर सरकारी जमीन हथियाने का मुकदमा लिखवाया है। गत माह पूर्व विधायक को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेजा था।

प्रकरण की जांच के लिए जिलाधिकारी ने राजस्व विभाग की टीम गठित कराई। जांच में पाया गया कि सरकारी व निजी जमीन पर कब्जा जमाने में पूर्व विधायक के भाई मारूफ अनवर हाशमी, आबिद अनवर हाशमी व  निजामुद्दीन की भूमिका महत्वपूर्ण रही है। राजस्व टीम ने सरकारी जमीन पर कब्जा करने का दो नया मामला भी पाया है। जिलाधिकारी कृष्णा करुणेश ने बताया कि पूर्व विधायक श्री हाशमी भू माफिया गिरोह के सरगना हैं। गिरोह में उनके तीन भाई भी शामिल हैं। अग्रिम कार्रवाई के लिए जांच रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है।

एसपी कार्यालय दांग  के प्रवक्ता डीएसपी सुमित खड़का ने बताया कि पकड़े गए तस्करों की पहचान घोराही वार्ड नंबर 15 निवासी 25 वर्षीय सुभाष श्रेष्ठ, घोराही वार्ड नंबर 14 निवासी सम्मान श्रेष्ठ तथा पोखरा निवासी अपूर्व थैव श्रेष्ठ को गिरफ्तार किया गया है। डीएसपी ने यह भी बताया कि ये लोग पेशेवर सोने के तस्कर हैं। ये काफी लंबे समय से सोने की तस्करी करते थे। ये तस्कर दांग से सोना लेकर पहले नेपालगंज में एक स्वर्ण व्यापारी के यहां जाते थे। फिर एक रात वहां रुकने के बाद सोना लेकर भारत में यूपी की राजधानी लखनऊ ले जाते थे। काफी दिनों से हमारी पुलिस इन तस्करों की तलाश कर रही थी।

 पकड़े गए तीनों लोग सोने के  बड़े तस्कर हैं। नेपाली जिला दांग चरस का ट्रांजिट प्वाइंट तो था ही अब यह सोने की तस्करी का ट्रांजिट प्वाइंट बन गया है।