ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशकेजीएमयू के भर्ती शुल्‍क में फर्जीवाड़ा? फैक्‍ट फाइंडिंग कमेटी बनी;  जांच शुरू 

केजीएमयू के भर्ती शुल्‍क में फर्जीवाड़ा? फैक्‍ट फाइंडिंग कमेटी बनी;  जांच शुरू 

इस मामले में शिकायत के बाद भी लंबे समय तक अफसरों ने खानापूरी की। जांच कराने की जहमत नहीं उठाई। शासन प्रशासन में किरकिरी के बाद KGMU प्रशासन ने 26 अप्रैल को चार सदस्यीय कमेटी गठित की।

केजीएमयू के भर्ती शुल्‍क में फर्जीवाड़ा? फैक्‍ट फाइंडिंग कमेटी बनी;  जांच शुरू 
Ajay Singhवरिष्ठ संवाददाता,लखनऊTue, 30 Apr 2024 06:31 AM
ऐप पर पढ़ें

KGMU News: केजीएमयू के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती मरीज के बेड चार्ज में फर्जीवाड़े के मामले की जांच होगी। किरकिरी के बाद केजीएमयू प्रशासन ने चार सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी गठित की है। ट्रॉमा सेंटर के पांचवें तल पर स्थित क्रिटिकल केयर यूनिट में अलीमुनिशा (44) को भर्ती कर इलाज किया गया। क्रिटिकल केयर यूनिट में प्रतिदिन का बेड शुल्क 1000 रुपये है। आरोप है कि यूनिट कर्मचारियों ने मरीज के तीमारदार को तीन दिन का बेड चार्ज जमा करने को कहा।

तीमारदार कैश काउंटर पर गए। कर्मचारी को पर्चा दिया। तीन दिन का 3000 रुपये शुल्क भी दिया। आईटी सेल के कर्मचारी ने शुल्क जमा करने में खेल कर दिया। कर्मचारी ने बेड चार्ज जमा करने की बजाय दूसरे मरीज रज्जन लाल की रसीद पर नाम और शुल्क बदलकर उसे तीमारदारों को थमा दिया। जबकि रज्जन लाल की यह रसीद डेंटल ओपीडी में कटी थी। भर्ती शुल्क की रसीद में बड़े पैमाने पर घपले की आशंका है। हजारों रुपये के खेल से भी इनकार नहीं किया जा सकता है।

किरकिरी के बाद उठाया कदम 
शिकायत के बाद लंबे समय तक अफसरों ने खानापूरी की। जांच कराने की जहमत नहीं की। हिन्दुस्तान अखबार ने मामले को गंभीरता से उठाया। शासन प्रशासन में किरकिरी के बाद केजीएमयू प्रशासन ने 26 अप्रैल को चार सदस्यीय फैक्ट फाइंडिंग कमेटी गठित की। इसमें सीएमएस डॉ. बीके ओझा, चीफ प्रॉक्टर डॉ. क्षितिज श्रीवास्तव, डिप्टी रजिस्ट्रार डॉ. संदीप भट्टाचार्या और आईटी सेल की प्रमुख डॉ. ऋचा खन्ना शामिल हैं।