DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  अनुप्रिया ने मां के लिए मांगी MLC सीट, कृष्णा पटेल बोलीं-मुझसे कोई बात ही नहीं की
उत्तर प्रदेश

अनुप्रिया ने मां के लिए मांगी MLC सीट, कृष्णा पटेल बोलीं-मुझसे कोई बात ही नहीं की

लखनऊ प्रमुख संवाददाताPublished By: Yogesh Yadav
Sun, 20 Jun 2021 08:19 PM
अनुप्रिया ने मां के लिए मांगी MLC सीट, कृष्णा पटेल बोलीं-मुझसे कोई बात ही नहीं की

दो धड़ों की राजनीति में उलझे परिवार को फिर से एक करने की अपना दल (सोनेलाल) की अध्यक्ष सांसद अनुप्रिया पटेल की कोशिशें आसानी से परवान चढ़ती नजर नहीं आ रही। अपना दल (कमेरावादी) के नाम से दूसरा दल चला रहीं सांसद अनुप्रिया की मां कृष्णा पटेल ने कहा है कि ये सब बातें बेवजह हो रही हैं। 

उन्हें एमएलसी बनाने के मुद्दे पर बेटी अनुप्रिया या उनके दल से किसी भी जिम्मेदार व्यक्ति ने उनसे कोई बात नहीं की है। कृष्णा पटेल का कहना है कि जब भी चुनाव आते हैं, इस तरह की बातें चर्चा में लाई जाती हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह का कोई प्रस्ताव लाने से पूर्व बैठ कर बातें की जाती हैं, ऐसी कोई चर्चा उनसे नहीं की गई है। 

उन्होंने बताया कि वह विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी हैं। उनकी पार्टी मजबूती के साथ चुनाव मैदान में उतरेगी। चुनाव के समय जिस किसी भी दल से बेहतर गठबंधन होने की संभावना दिखेगी। उससे गठबंधन किया जाएगा। पार्टी कार्यकर्ता पूरे उत्साह से विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटे हैं। 

इससे पहले अनुप्रिया पटेल ने विधान परिषद में खाली हो रही मनोनीत क्षेत्र के चार (एमएलसी सीटें) सदस्यों में से एक सदस्य पद देने की मांग की थी। अद (एस) ने प्रदेश भाजपा के शीर्ष नेताओं के सामने अपनी यह मंशा जाहिर की है। पार्टी सारे विवादों को किनारे रखकर स्व. सोनेलाल पटेल की पत्नी कृष्णा पटेल को एमएलसी बनाना चाहती है, ताकि पार्टी विधानसभा चुनाव में परिवार की एकता के साथ जनता के बीच नजर आए। 

अनुप्रिया की पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने भाजपा के शीर्ष नेताओं को यह समझाने का प्रयास किया है कि इसका लाभ विधानसभा चुनाव के दौरान राज्य में एनडीए के प्रत्याशियों को मिलेगा। कृष्णा पटेल के भी साथ आ जाने से विपक्षियों को भ्रमित करने का मौक़ा नहीं मिलेगा। मिली जानकारी के मुताबिक कृष्णा पटेल के नाम पर सहमति नहीं बनने पर अद (एस) स्व. डा. सोनेलाल पटेल के सहयोगी रहे किसी पुराने कुर्मी नेता को विधान परिषद में भेजना चाहेगी। विधान परिषद में सपा के चार मनोनीत सदस्यों का कार्यकाल पांच जुलाई को समाप्त हो रहा है। 

संबंधित खबरें