DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  मां से गुस्सा होकर घर से निकली किशोरी से गैंगरेप, ई-रिक्शा चालक ने छह दोस्तों संग की दरिंदगी
उत्तर प्रदेश

मां से गुस्सा होकर घर से निकली किशोरी से गैंगरेप, ई-रिक्शा चालक ने छह दोस्तों संग की दरिंदगी

बीकेटी। संवाददाताPublished By: Yogesh Yadav
Mon, 14 Jun 2021 11:03 PM
मां से गुस्सा होकर घर से निकली किशोरी से गैंगरेप, ई-रिक्शा चालक ने छह दोस्तों संग की दरिंदगी

इटौंजा के एक गांव में रविवार सुबह मां की डांट से गुस्सा होकर निकली 14 साल की किशोरी को एक ई-रिक्शा चालक खाना खिलाने व नौकरी दिलाने के बहाने अपने घर ले गया। फिर रात में मड़ियांव स्थित घर दोस्तों को बुलाकर उसके साथ दुराचार किया। दरिन्दगी करने वाले आरोपी किशोरी को दो जगह ले गये थे। किशोरी के घर वालों से सूचना पाकर एसपी ग्रामीण हृदयेश कुमार व सीओ बीकेटी हृदयेश कठेरिया अपनी टीम के साथ रात भर बच्ची को ढूंढ़ते रहे। सोमवार तड़के बच्ची को मड़ियांव से बरामद कर छह आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी मूल रूप से सीतापुर व बाराबंकी के रहने वाले है। इनकी उम्र 23 से 27 वर्ष के बीच की है। 

एसपी हृदयेश कुमार के मुताबिक पकड़े गये आरोपियों में सीतापुर, संदना निवासी रिक्शा चालक इकरामुद्दीन, डुडौली निवासी मो. नसीम, शकील उर्फ छोटू, नूर मोहम्मद उर्फ पुन्नू, बिहार के सिवान निवासी उत्तम शर्मा और रहीमनगर निवासी रीतेश यादव उर्फ भोला हैं। सीओ हृदयेश कठेरिया ने बताया कि किशोरी को उसकी मां ने मामूली बात पर डांट दिया था। इस पर ही वह शौच के बहाने घर से निकली और मड़ियांव पहुंच गई।

यहां वह लोगों से चारबाग रेलवे स्टेशन का रास्ता पूछ रही थी। इसी समय इकरामुद्दीन ने उसे देखा और पूछा कि वह अकेली कहां जा रही है। किशोरी ने कहा कि वह मुम्बई में नौकरी के लिये जा रही है। इस पर इकरामुद्दीन ने उसे यहीं नौकरी दिलाने की बात कही और खाना खिलाने के बहाने मड़ियांव में अपने घर ले गया। शाम तक उस पर दुलार दिखाता रहा। 

दो जगह किशोरी के साथ सामूहिक दुराचार
इकरामुद्दीन ने शाम सात बजे दोस्तों को बुला लिया। इन लोगों ने किशोरी के साथ दुराचार किया। उसके विरोध करने पर धमकाकर चुप करा दिया। रात नौ बजे उसे एक दूसरे आरोपी के घर ले जाया गया। यहां भी उसके साथ दुराचार किया गया। सीओ के मुताबिक पीड़िता ने बताया कि छह लोगों में से पांच लोगों ने ही उसके साथ गलत हरकत की जबकि एक आरोपी ने ऐसा करने से मना कर दिया था। बीकेटी थाने में सभी आरोपियों के खिलाफ दुराचार, पोक्सो एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। 

पिटायी भी की गई किशोरी की
इंस्पेक्टर योगेन्द्र प्रताप सिंह के मुताबिक किशोरी के विरोध करने पर इकरामुद्दीन ने उसकी पिटाई भी की। किशोरी के रोन पर उसका मुंह दबा दिया था। इसके बाद ही पीड़ता डर गई थी। सीओ ने बताया कि जब किशोरी के बरामद होने की सूचना उसकी मां को मिली तो वह कुछ देर में ही थाने पहुंच गई। किशोरी से लिपट कर रोने लगी। हालांकि किशोरी को वहां से मेडिकल परीक्षण के लिये अस्पताल भेज दिया गया। पीड़िता के पिता की काफी पहले ही मौत हो चुकी है। उसकी मां घरेलू काम कर जीविका चलाती है।

संबंधित खबरें