ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशमथुरा के सीएमओ आफिस में क्लोरीन गैस का रिसाव, एक दर्जन से ज्यादा नर्सिंग छात्राओं की हालत बिगड़ी

मथुरा के सीएमओ आफिस में क्लोरीन गैस का रिसाव, एक दर्जन से ज्यादा नर्सिंग छात्राओं की हालत बिगड़ी

मथुरा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) कार्यालय परिसर में शुक्रवार को बड़ा हादसा हो गया। यहां स्थित कोल्ड चैन से क्लोरीन गैस रिसाव होने से हड़कंप मच गया है। एक दर्जन से ज्यादा की हालत खराब हो गई।

मथुरा के सीएमओ आफिस में क्लोरीन गैस का रिसाव, एक दर्जन से ज्यादा नर्सिंग छात्राओं की हालत बिगड़ी
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,मथुराFri, 03 Nov 2023 09:49 PM
ऐप पर पढ़ें

मथुरा में मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय परिसर स्थित एक बंद कमरे से क्लोरीन गैस का रिसाव होने से एएनएम सेंटर की 11 छात्राओं और दो कर्मचारियों की हालत बिगड़ गई, जिन्हें भर्ती कराया गया है। उनकी हालत खतरे से बाहर है। करीब छह घंटे की जद्दोजहद के बाद गैस रिसाव से उठी मुश्किलों पर काबू पाया जा सका। मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय परिसर में दो दिन से गंध आ रही थी। गत रात गंध फैलने पर अग्निशमन विभाग को सूचना दी गई थी। अग्निशमन की गाड़ी आई तो, लेकिन कुछ देर बाद लौट गई। शुक्रवार सुबह करीब 10 बजे गैस का अधिक रिसाव होने से अजीब सी गंध फैलने लगी।

इसकी तत्काल सूचना फायर ब्रिगेड को दी गई। दमकल की तीन गाड़ियां सीएमओ कार्यालय पहुंचीं। टीम ने किसी प्रकार कोठरी का जंगला तोड़कर अंदर देखा तो वहां क्लोरीन गैस के सिलेंडर रखे थे। जंगला तोड़ते ही गैस का रिसाव तेज हो गया। दुर्गन्ध चारों तरफ फैलने लगी। अफरातफरी का माहौल बन गया। बगल में स्थित एएनएम सेंटर पर इसका प्रभाव ज्यादा हुआ और वहां की छात्राएं बाहर निकलकर भागने लगीं। कई छात्राएं गिर पड़ीं। कुछ छात्राएं गैस से बचने को जवाहर बाग पहुंच गईं, लेकिन गैस के प्रभाव में आने से उनकी तबीयत बिगड़ गई।

अस्पताल में ये हैं भर्ती
छात्राओं की हालत बिगड़ने पर एम्बुलेंस द्वारा उन्हें जिला अस्पताल पहुंचाया गया। आस्पताल में भर्ती छात्राओं में सोनल, शालिनी, सर्वेश, कविता, रागिनी, ज्योति, कुसुम, प्रियंका, आरती, रिचा, शिवानी के अलावा जितेन्द्र सारस्वत, लखन को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। इन छात्राओं का कहना था कि घबराहट, बेचैनी, सांस लेने में दिक्कत आदि की परेशानी उन्हें हो रही थी। सभी का उपचार शुरू कर दिया गया। 

फायर अधिकारी भी आए चपेट में
गैस रिसाव की चपेट में एसएफओ नरेश कुमार सिंह आ गये। तबीयत बिगड़ने पर उन्हें सिम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। हॉस्पिटल ग्रुप के चेयरमैन डाक्टर गौरव भारद्वाज के अनुसार उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया। 

मीटिंग से जिला अस्पताल पहुंचे सीएमएस
सीएमओ कार्यालय में गैस रिसाव की सूचना मिलने पर मीटिंग में भाग लेने गए सीएमएस डॉक्टर मुकुंद बंसल हॉस्पिटल पहुंचे और सभी मरीजों का हाल जाना। उपचार कर रहे चिकित्सकों से जानकारी ली। यहां डॉ. अमन कुमार, डॉ. भूदेव सिंह, डॉ. देवेन्द्र मोहन, डॉ. धर्मवीर, डॉ. सिद्धार्थ धनगर, डॉ. बीडी गौतम उपचार में लगे रहे। 

जंगले को तोड़कर निकाला सिलेंडर 
फायर ब्रिगेड की टीम ने कोठरी में लगे जंगले को तोड़कर क्लोरीन से भरे सिलेंडर को बाहर निकाला। यहां दो सिलेंडर रखे थे। 

जवाहर बाग और राजीव भवन तक रहा असर
सीएमओ कार्यालय से गैस रिसाव होने का शोर चारों तरफ मचा रहा। राजीव भवन के आसपास आते-जाते लोगों को भी इससे परेशानी हुई तो वह तेजी से इससे दूर होने लगे। जवाहर बाग तक इसकी स्मैल आ रही थी। 

सीएमओ डॉक्टर एके वर्मा के अनुसार परिसर के एक कमरे से क्लोरीन गैस रिसाव होने से दुर्गंध फैलने लगी। इससे कुछ छात्राओं एवं अन्य को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हुई। इनको उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसकी रिपोर्ट तैयार करवाई जा रही है। 

जिला अस्पताल के सीएमएस डॉक्टर मुकुंद बंसल के अनुसार गैस रिसाव की चपेट में आईं छात्राओं एवं अन्य को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। चिकित्सकों द्वारा उनका उपचार किया गया। उनके स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है। सभी का स्वास्थ्य ठीक है।