DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भाजपा-सपा में रही कांटे की टक्कर, जानिए क्या रहा रिजल्ट

उत्तर प्रदेशस्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भाजपा-सपा में रही कांटे की टक्कर, जानिए क्या रहा रिजल्ट

हिन्दुस्तान टीम,अमेठीPublished By: Deep Pandey
Tue, 04 May 2021 03:30 PM
स्मृति ईरानी के संसदीय क्षेत्र अमेठी में भाजपा-सपा में रही कांटे की टक्कर, जानिए क्या रहा रिजल्ट

स्मृति ईरानी संसदीय क्षेत्र अमेठी में कोरोना मिसमैनेजमेंट का असर कहें या स्थानीय स्तर पर सियासी कमजोरी। प्रदेश व केंद्र में सत्तासीन भाजपा के कई-बड़े दिग्गज नेताओं के परिजन पंचायत चुनाव में धराशाई हो गए हैं। इसका दंश अन्य पार्टियों के प्रभावशाली नेताओं को भी भुगतना पड़ा है।

अमेठी की जनता ने इस बार पंचायत चुनाव में जनादेश परिवारवाद के खिलाफ सुनाया है। जिला पंचायत की वार्ड संख्या 22 से चुनाव लड़ रही भाजपा के पूर्व विधायक तेजभान सिंह के परिवार की डॉ. सुनीता सिंह चुनाव हार गई। इतना ही नहीं वार्ड संख्या 23 से पूर्व मंत्री व वरिष्ठ भाजपा नेता जंग बहादुर सिंह की पुत्रवधू भी चुनाव हार गई। वार्ड संख्या 23 से ही गौरीगंज से सपा विधायक राकेश प्रताप सिंह के छोटे भाई उमेश प्रताप सिंह भी चुनाव हार गए। वार्ड संख्या 26 से राकेश प्रताप सिंह के बड़े भाई सुरेश प्रताप सिंह उर्फ मुकेश सिंह को भी हार का सामना करना पड़ा। हालांकि सियासी रूप से कट्टर प्रतिद्वंदी माने जाने वाले जगदीशपुर के राजेश विक्रम सिंह और मोहम्मद नईम के परिवार से एक - एक लोग चुनाव जीतने में कामयाब रहे।

नए चेहरों को तरजीह

जनता ने इस बार नए चेहरों को काफी तरजीह दी है। चुनाव जीतने वाले नेताओं में बड़ी संख्या पहली बार चुनाव लड़ने वालों की है। विशाल विक्रम सिंह ,अभिषेक चंद कौशिक, केडी सरोज, मोनू यादव ,मुकेश यादव ,सूबेदार यादव ,तस्लीम आरिफ समेत बड़ी संख्या में युवा इस बार चुनकर आए हैं।

निर्दल तय करेंगे किसके सिर बंधेगा सेहरा

चुनाव में भाजपा और सपा दोनों को नौ - नौ सीटें प्राप्त हुई। कांग्रेस, बसपा और जनसत्ता को दो-दो सीटें प्राप्त हुई। जबकि 12 सीटों पर निर्दलीय प्रत्याशियों का कब्जा है। जिला पंचायत  अध्यक्ष पद की कुर्सी हथियाने के लिए कम से कम 19 जिला पंचायत सदस्यों की आवश्यकता होगी। ऐसे में अब सारा दारोमदार निर्दल जीते प्रत्याशियों के ऊपर है। निर्दल प्रत्याशी जिस पार्टी का सपोर्ट करेंगे, उसी का जिला पंचायत अध्यक्ष होगा।

संबंधित खबरें