ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशअमेठी से कांग्रेस का टिकट मिलने पर केएल शर्मा पहले चौंके, कुछ देर बाद प्रतिक्रिया में कहीं ये बातें

अमेठी से कांग्रेस का टिकट मिलने पर केएल शर्मा पहले चौंके, कुछ देर बाद प्रतिक्रिया में कहीं ये बातें

उत्तर प्रदेश में अमेठी लोकसभा सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी किशोरी लाल शर्मा ने बतौर प्रत्याशी पहली प्रतिक्रिया दी है। केएल शर्मा कहते हैं कि मुझे यह मौका देने के लिए धन्यवाद दिया।

अमेठी से कांग्रेस का टिकट मिलने पर केएल शर्मा पहले चौंके, कुछ देर बाद प्रतिक्रिया में कहीं ये बातें
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊFri, 03 May 2024 01:36 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के अमेठी लोकसभा सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी किशोरी लाल शर्मा ने बतौर प्रत्याशी पहली प्रतिक्रिया दी है। अमेठी लोकसभा सीट से अपनी उम्मीदवारी पर कांग्रेस प्रत्याशी केएल शर्मा कहते हैं कि मुझे यह मौका देने के लिए मैं कांग्रेस पार्टी, मल्लिकार्जुन खड़गे, सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को धन्यवाद देना चाहता हूं। मैं यहां काम कर रहा हूं। अब 40 वर्षों से मैं बहुत खुश हूं कि मुझे यह जिम्मेदारी दी गई।

इससे पहले प्रियंका गांधी ने केएल शर्मा को प्रत्याशी बनाए जाने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि किशोरी लाल शर्मा जी से हमारे परिवार का वर्षों का नाता है। अमेठी, रायबरेली के लोगों की सेवा में वे हमेशा मन-प्राण से लगे रहे। उनका जनसेवा का जज्बा अपने आप में एक मिसाल है। आज खुशी की बात है कि श्री किशोरी लाल जी को कांग्रेस पार्टी ने अमेठी से उम्मीदवार बनाया है। किशोरी लाल जी की निष्ठा और कर्तव्य के प्रति उनका समर्पण अवश्य ही उन्हें इस चुनाव ने सफलता दिलाएगा।

 

दरअसल, किशोरी लाल शर्मा को अमेठी से उम्मीदवार बनाया गया। सूची आने के बाद कांग्रेस कार्यालय में हालांकि कोई उत्साह देखने को नहीं मिला। किशोरी लाल शर्मा 1984 में राजीव गांधी के साथ तिलोई के कोऑर्डिनेटर बनकर अमेठी आए थे। यहां वह राजीव गांधी के विकास कार्यों को देखा करते थे। इसके बाद में जगदीशपुर के कोऑर्डिनेटर बनाए गए। कैप्टन सतीश शर्मा जब अमेठी से सांसद बने तो किशोरी लाल शर्मा उनके प्रतिनिधि हुआ करते थे। 2009 में सोनिया गांधी अमेठी चुनाव लड़ने आई तो किशोरी लाल शर्मा उनके भी प्रतिनिधि रहे। इसके बाद उन्होंने सोनिया गांधी और राहुल गांधी दोनों के प्रतिनिधि का दायित्व निभाया। 2012 में वह रायबरेली में सोनिया गांधी का ही काम देखने लगे। पार्टी ने उनके कार्य को देखते हुए उन्हें राष्ट्रीय सचिव भी बनाया था।