ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशपीसीएस ज्‍योति मौर्य से समझौते को तैयार हैं पति आलोक, फैमिली कोर्ट में हुए हाजिर; बताई ये वजह 

पीसीएस ज्‍योति मौर्य से समझौते को तैयार हैं पति आलोक, फैमिली कोर्ट में हुए हाजिर; बताई ये वजह 

पीसीएस अधिकारी ज्‍योति मौर्या और उनके पति आलोक मौर्य का विवाद लगातार चर्चा का विषय बना हुआ है। मंगलवार को आलोक मौर्य ने कहा कि वह बच्‍चों की खातिर अपनी पत्‍नी ज्‍योति मौर्य से समझौते को तैयार हैं।

पीसीएस ज्‍योति मौर्य से समझौते को तैयार हैं पति आलोक, फैमिली कोर्ट में हुए हाजिर; बताई ये वजह 
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान,प्रयागराजWed, 12 Jul 2023 06:04 AM
ऐप पर पढ़ें

PCS Jyoti Maurya Case: पीसीएस अधिकारी ज्‍योति मौर्या और उनके पति आलोक मौर्य का विवाद लगातार चर्चा का विषय बना हुआ है। इस बीच मंगलवार को आलोक मौर्य ने कहा कि वह बच्‍चों की खातिर अपनी पत्‍नी ज्‍योति मौर्य से समझौते को तैयार हैं। प्रयागराज में फैमिली कोर्ट में अपने वकील के साथ हाजिर हुए। बता दें कि ज्‍योति की ओर से पारिवारिक अदालत में तलाक का मुकदमा दाखिल किया गया है। आलोक मौर्य ने कहा कि उसे ज्‍योति की ओर से पेश किए गए मुकदमें में जारी किया गया नोटिस मिला है। उसने कोर्ट से अनुरोध किया कि उसे मुकदमे की प्रतियां दिलाई जाएं ताकि वह न्‍यायालय के सामने अपना जवाब पेश कर सके। 

फैमिली कोर्ट के बाहर मीडिया से बातचीत में आलोक मौर्य ने कहा कि बच्चों के लिए वह अपनी पत्नी ज्योति मौर्या के साथ समझौते के लिए तैयार हैं। उन्होंने ज्योति की ओर से धूमनगंज थाने में दर्ज कराई गई एफआईआर को फर्जी बताया और कहा कि डीजी की कमेटी के सामने उनका बयान हो चुका है, सच्चाई खुलने जा रही है।

आलोक ने कहा कि धूमनगंज थाने में दर्ज मुकदमा फर्जी है। उसकी भी जांच चल रही है सच्चाई बहुत जल्द सामने आ जाएगी। कहा कि ज्योति मौर्या ने झूठ बोलकर विवाह किए जाने का जो आरोप लगाया है वह झूठा है। 2009 में ज्योति की ओर से उनके विभाग को लिखा गया एक पत्र उनके पास है, जिसे वह कोर्ट में प्रस्तुत करेंगे तो सच्चाई खुद ब खुद सामने आ जाएगी। कहा कि दहेज उत्पीड़न का आरोप सरासर फर्जी है, हम लोगों ने कहीं किसी पैसे की मांग नहीं की है। 

ज्‍योति को पत्‍नी नहीं दोस्‍त मानता हूं
आलोक ने कहा कि ज्योति को वह पत्नी कम दोस्त अधिक समझते थे। आज भी समझते हैं। बच्चों के लिए वह माफी मांगने को भी तैयार हैं। प्रमुख न्यायाधीश ने आलोक की ओर से पेश किए गए प्रार्थना पत्र और उसके साथ संलग्न किए गए पहचान पत्र का अवलोकन करने के पश्चात पेशकार को आदेश दिया कि मुकदमे की प्रति उपलब्ध कराई जाए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें