DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इलाहाबाद हाईकोर्ट को मिले 28 नए अतिरिक्त जज, दो महिला जज भी शामिल

Allahabad High Court

देश के सबसे बड़े हाईकोर्ट इलाहाबाद में केंद्र सरकार ने 28 जजों की एकमुश्त नियुक्ति का आदेश पारित किया है। यह पहली बार है जब किसी हाईकोर्ट के लिए इतने जजों की नियुक्ति एक साथ हुई है। सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम ने इन वकीलों को जज बनाने की सिफारिश दो हिस्सों में की थी। कोर्ट ने 25 सितंबर को 17 वकीलों को जज बनाने की सिफारिश की। इसके बाद 31 अक्तूबर को 13 वकीलों की सिफारिश की गई। सरकार ने इन्हें तेजी से मंजूरी दी और अब अधिसूचना जारी कर दी गई। लेकिन पहली सूची से दो नाम रोक लिए गए हैं।

ये जज दो साल के लिए अतिरिक्त जज रहेंगे उसके बाद उन्हें कोलेजियम की सिफारिश पर फिर से स्थायी किया जाएगा। नए 28 जजों में सिर्फ दो महिलाएं मंजूरानी चौहान और गांदीकोटा श्रीदेवी शामिल हैं। हाईकोर्ट में जजों की स्वीकृत संख्या 160 जज है। इनमें 76 स्थायी और 84 अतिरिक्त जज शामिल हैं। र्हाइकोर्ट में इस समय 69 स्थायी और 20 अतरिक्त जज काम कर रहे हैं। इस हिसाब से यहां 71 जजों की रिक्तियां हैं। अब 117 जजों के साथ यह संख्या 43 रह जाएगी। यह भी पहला मौका होगा जब हाईकार्ट में रिक्तियों की संख्या 50 से नीचे जाएगी। 

रणनीति: तेलंगाना में मुस्लिम कार्ड खेल रही कांग्रेस 

दिल्ली हाईकोर्ट के लिए ओहरी का नाम साफ

केंद्र सरकार ने अधिवक्ता मनोज ओहरी का नाम कुछ समय रोक कर जजशिप के लिए क्लीयर कर दिया है। पिछले दिनों मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सरकार द्वारा कोलेजियम की सफारिश में भेजे गए नामों को अलग-अलग करने पर आपत्ति जताई थी। यह आपत्ति ओहरी का नाम रोकने के बाद की गई। सरकार ने 19 नंवबर को ओहरी का नाम क्लीयर कर दिया। 

छत्तीसगढ़ चुनाव : कांग्रेस का प्रदेश में नतीजे प्रभावित करने का आरोप

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Allahabad High Court gets 28 new additional judges two women judges too included