DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › अलीगढ़ : आजम खान की रिहाई के लिए एएमयू में छात्रों ने निकाला मार्च
उत्तर प्रदेश

अलीगढ़ : आजम खान की रिहाई के लिए एएमयू में छात्रों ने निकाला मार्च

एजेंसी, अलीगढ़Published By: Shivendra Singh
Tue, 27 Jul 2021 01:16 PM
अलीगढ़ : आजम खान की रिहाई के लिए एएमयू में छात्रों ने निकाला मार्च

उत्तर प्रदेश के रामपुर से लोकसभा सदस्य और प्रदेश के पूर्व मंत्री आजम खान को जमानत नहीं दिए जाने के विरोध में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के छात्रों ने विश्वविद्यालय परिसर में मार्च निकाला। प्रदर्शनकारी छात्रों ने आरोप लगाया कि उन्हें (आजम खान) जानबूझकर निशाना बनाया जा रहा है और राजनीतिक आधार पर उन्हें जमानत देने से इनकार कर दिया गया है।

छात्र संघ के पूर्व सचिव हुजैफा आमिर ने कहा कि आजम खान एएमयू छात्रसंघ के पूर्व सचिव थे, एएमयू समुदाय सांसद की स्वास्थ्य स्थिति के बारे में चिंतित है, जो वर्तमान में लखनऊ के एक अस्पताल में नाजुक हालत में अस्पताल में भर्ती हैं। इस संबंध में राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन, उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को एक प्रति के साथ एएमयू के प्रॉक्टर मोहम्मद वसीम अली को सौंपने के बाद हुजैफा ने मंगलवार को मीडियाकर्मियों से कहा कि एएमयू समुदाय सपा संस्थापकों में से एक आजम खान के मामले में समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव की भूमिका से बहुत निराश है।

उन्होंने कहा कि दुर्भाग्य से अखिलेश यादव की भूमिका केवल सांकेतिकता और इस मुद्दे पर ट्वीट जारी करने तक सीमित है। ज्ञापन में खान को स्वास्थ्य आधार पर जमानत देने के लिए राष्ट्रपति से इस मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया गया है।

इससे पहले सोमवार को मुरादाबाद में बिलारी नगर स्थित सपा कैंप कार्यालय पर सोमवार को उलेमाओं के साथ विधायक मोहम्मद फहीम इरफान ने सांसद आजम खान की लंबी उम्र और रिहाई के लिए विशेष दुआ कराई। विधायक मोहम्मद फहीम इरफान ने बताया कि भाजपा सरकार द्वारा बदले की भावना से सांसद आजम खां को प्रताड़ित किया जा रहा है। कहा सांसद आजम खान की तबीयत खराब होने के बावजूद भी भेदभाव की भावना से उनको अस्पताल से डिस्चार्ज करा कर जेल भेजा गया।

मो. फहीम इरफान बताया कि आजम खां को पोस्ट कोविड होने की वजह से उनको बेहतर उपचार की जरूरत है। बिना भेदभाव के उनका बेहतर उपचार कराया जाए। इसके अलावा कोरोना महामारी से मुल्क को निजात मिले, आपसी भाईचारा बना रहे की दुआ कराई गई। इस अवसर पर कारी खलील अहमद रिजवी, कारी आदिल अशरफी, हकीम मंजर अली, हाफिज अब्दुल करीम, गालिब पाशा, उसमान अली, शानू, माजिद, बसर अली, नूर मौहम्मद, हनीफ, कलीम नूरी, जरीफ अंसारी, आरिफ, सरफराज, वसीम, फैजी आदि रहे।

संबंधित खबरें