ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशटिकट मांगने पर जेल, वापस आने पर खेल; धनंजय सिंह का नाम लिए बिना अखिलेश यादव ने साधा निशाना

टिकट मांगने पर जेल, वापस आने पर खेल; धनंजय सिंह का नाम लिए बिना अखिलेश यादव ने साधा निशाना

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को जौनपुर की चुनावी सभा में बिना नाम लिए बाहुबली पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर खूब निशाना साधा। यहां तक कहा कि धनंजय ने सपा का टिकट भी मांगा था।

टिकट मांगने पर जेल, वापस आने पर खेल; धनंजय सिंह का नाम लिए बिना अखिलेश यादव ने साधा निशाना
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,जौनपुरThu, 23 May 2024 06:36 PM
ऐप पर पढ़ें

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को जौनपुर की चुनावी सभा में बिना नाम लिए बाहुबली पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर खूब निशाना साधा। अखिलेश ने यहां तक कहा कि एक समय धनंजय सिंह टिकट मांग रहे थे। इसकी खबर लगते ही जेल भेज दिए गए। जेल से निकले तो खेल शुरू कर दिया। यह खेल सभी लोग समझते हैं। अखिलेश यादव ने कहा कि आपको सावधान करने आया हूं। यहां पर बसपा और भाजपा ने अंदर ही अंदर हाथ मिला रखा है।

जौनपुर में सपा प्रत्याशी बाबू सिंह कुशवाहा के समर्थन में आयोजित जनसभा में अखिलेश यादव ने कहा कि जितने भी लोग यहां पर सपा के खिलाफ लड़ रहे हैं सब एक समय आपकी पार्टी से टिकट मांग रहे थे। भाजपा प्रत्याशी कृपाशंकर सिंह की ओर इशारा करते हुए कहा कि कोई बंबई से आया और टिकट ले गया। फिर धनंजय सिंह की ओर इशारा करते हुए कहा कि जब किसी ने टिकट का विरोध किया तो उसे जेल पहुंचा दिया। यह भी कहा कि कोई यह कह रहा था आपसे उन्होंने बारात में टिकट मांग ली थी इसलिए जेल जाना प़ड़ा। कहा कि जेल गया कोई (धनंजय सिंह) और जेल से बाहर आकर क्या खेल हो रहा है।

सवाल किया कि यह खेल किसी को समझ नहीं आता क्या? अंदर ही अंदर लोगों ने हाथ मिला रखा है। अखिलेश ने धनंजय की पत्नी श्रीकला की ओर इशारा करते हुए यह भी कहा कि पहले टिकट किसी और का था। 

गौरतलब है कि जौनपुर में धनंजय सिंह इस बार भी मैदान में उतरने की पूरी तैयारी कर चुके थे। वह भाजपा से टिकट चाहते थे लेकिन उनकी जगह कृपा शंकर सिंह को टिकट दे दिया गया। इसके बाद भी उन्होंने मैदान में उतरने का ऐलान कर दिया। अखिलेश यादव के इशारों को समझें तो धनंजय सिंह ने सपा से टिकट मांगा था। इससे पहले कि सपा कोई फैसला लेती अपहरण के मामले में धनंजय सिंह को सात साल की सजा हो गई और जेल भेज दिया गया। धनंजय सिंह ने इसे अपने खिलाफ षड्यंत्र बताया और कहा कि चुनाव लड़ने से रोकने के लिए यह किया गया है। 

इसी बीच उनकी पत्नी श्रीकला को बसपा ने टिकट देकर यहां का चुनाव रोचक बना दिया। पत्नी के मैदान में उतरने के कारण एक तरफ धनंजय सिंह को जौनपुर जेल से बरेली शिफ्ट किया गया तो दूसरी तरफ इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी। जमानत पर जौनपुर आते ही उनके साथ नई घटना हो गई। बसपा ने उनकी पत्नी का टिकट काटकर मौजूदा सांसद श्याम सिंह यादव को प्रत्याशी बना दिया। हालांकि बसपा ने कहा कि खुद धनंजय सिंह ने ही टिकट वापस किया है। इस बीच धनंजय सिंह ने भाजपा को समर्थन का ऐलान करते हुए बीजेपी प्रत्याशियों के लिए प्रचार भी शुरू कर दिया है। जौनपुर में छठे चरण में शनिवार को वोट पड़ेंगे।