ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशमायावती के गिरगिट वाले बयान पर अखिलेश का जवाब, बोले-हम तो उन्‍हें पीएम बनाना चाहते थे 

मायावती के गिरगिट वाले बयान पर अखिलेश का जवाब, बोले-हम तो उन्‍हें पीएम बनाना चाहते थे 

अखिलेश यादव ने कहा कि 2019 के सपा और बसपा के गठबंधन की पहली शर्त ही यह थी कि मायावती जी को पीएम बनाया जाए। आज अगर वह ऐसी भाषा का इस्‍तेमाल कर रही हैं तो जरूर कहीं से कोई दबाव आया होगा।

मायावती के गिरगिट वाले बयान पर अखिलेश का जवाब, बोले-हम तो उन्‍हें पीएम बनाना चाहते थे 
Ajay Singhविशेष संवाददाता,लखनऊWed, 17 Jan 2024 07:02 AM
ऐप पर पढ़ें

Akhilesh yadav: बसपा प्रमुख मायावती ने 15 जनवरी को अपने जन्‍मदिन के मौके पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में लोकसभा चुनाव में बसपा के अकेले ही लड़ने का ऐलान करते हुए समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव को गिरगिट की तरह रंग बदलने वाला बताया था। अब अखिलेश यादव ने इसका जवाब दिया है। बाराबंकी पहुंचे अखिलेश यादव ने कहा कि हम तो उन्‍हें पीएम बनाना चाहते थे। 2019 के सपा और बसपा के गठबंधन की पहली शर्त ही यह थी कि उन्‍हें पीएम बनाया जाए। आज अगर वह रंग बदलने वाली भाषा का इस्‍तेमाल कर रही हैं तो मुझे लगता है कि जरूर कहीं से दबाव आया होगा। दबाव के चलते ही उन्‍हें इस तरह की बात करनी पड़ रही है। 

अखिलेश ने कहा कि जब बाबा साहेब का संविधान खतरे में है। आज जब देश में संविधान बचाने की लड़ाई छिड़ी हुई है तब समाजवादी पार्टी पर आरोप लगाना कितना उचित है। इसी सपा से गठबंधन से बसपा ने लोकसभा की कई सीटें जीती थीं और हमारी पहली शर्त थी कि वह पीएम बनें। यदि हमारा सम्‍मान देना उन्‍हें खराब लग रहा है तो हम क्‍या कर सकते हैं। बसपा प्रमुख मायावती ने सोमवार को अखिलेश यादव को गिरगिट की तरह रंग बदलने वाला बताया था। मंगलवार को बाराबंकी में अखिलेश यादव से उनके इस बयान पर प्रतिक्रिया मांगी गई तो सपा प्रमुख ने ये बातें कहीं। अखिलेश यादव ने कहा कि हम लोग तो उन्हें प्रधानमंत्री बनाना चाहते थे। यह जो भाषा उनकी ओर से आई है। लगता है कि वह किसी के दबाव में हैं। 

सपा मुखिया ने कहा कि हमने हमेशा बसपा को सम्मान दिया है। हमारा मानना है कि इंडिया गठबंधन मजबूत होना चाहिए। हमारी कोशिश है कि इसमें अधिक से अधिक दल जुड़ें। हजारों साल तक बुराइयां झेलने वाले वर्ग से पीएम बने। अयोध्या में भगवान रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा भगवान श्रीराम को कब्जे में करना चाहती है। भाजपा भगवान को नहीं ला रही बल्कि उनकी कृपा से ही वह इस समय थोड़ा कामयाब हो रही है। इस बार भगवान जनता के साथ है। हम लोग रोजाना पूजा-पाठ करने वाले लोग हैं। इस चुनाव में हमारे लिये पीडीए ही भगवान है। पीडीए हमारे साथ है, तो हमें किसी का डर नहीं। इस बार पीडीए ही बीजेपी को यूपी से हटाएगी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें